Zindagi Esha ma naam hai.:*क्या आप जानते हैं कि चाणक्य सीरियल बीच में ही सरकारी दबाव पर रोक दिया गया था।* 90 के दशक में, चाणक्य एक बहुत ही लोकप्रिय सीरियल हुआ करता था। सीरियल का कथानक, एक्टिंग और इसमे दिया गया संदेश इतना प्रभावी था, कि लोग उसका बेसब्री से इंतजार किया करते थे। इस पोस्ट के मूल लेखक JNU से पढ़े हुए हैं, वे भी इस सीरियल का बेसब्री से इंतज़ार किया करते थे। इस सीरियल में प्राचीन भारत के महान लोगों और हमारे इतिहास और संस्कृति के बारे में बहुत अच्छे ढंग से दिखाया गया था, कई ऐसे तथ्य थे जो हमे कभी इतिहास की किताबो में नही पढ़ाये गए, और ये तथ्य ऐसे थे जिन पर हर भारतीय को गर्व की अनुभूति होती। उस ज़माने में युवाओं को ये जानकारी पहली बार मिल।रही थी, जिस वजह से उन्हें अपने इतिहास को लेकर जिज्ञासा भी हुई, और साथ ही इस इतिहास से जुड़ाव भी होने लगा, क्योंकि अब तक तो हमे बस हुमायूं से औरंगजेब और फिर अंग्रेजो की कहानियां ही पता थी.....उससे पहले भारत मे 5000 सालों में क्या हुआ, कैसे हुआ, ये सब हमसे छुपाया गया एक एजेंडे के तहत। अब जैसी की उम्मीद थी ही, ये सीरियल वामपंथी गैंग को पचा नही। 80 के दशक के अंत मे रामायण और महाभारत जैसे सीरियल अति लोकप्रिय हो चुके थे, इन सीरिअल्स की वजह से हिन्दू जनचेतना और राष्ट्रचेतना उभरने लगी थी......और इन दोनों ही चीजों से वामपंथियों को सख्त नफरत होती है। उन्हें लगा कि चाणक्य सीरियल 'सेक्युलर' भारत पर एक 'हिन्दुत्व' का हमला था। और फिर शुरू हुआ इस सीरियल के खिलाफ एक प्रोपगंडा का खेल। R Champakalakshmi एक History की प्रोफेसर थी JNU में, उन्हें चाणक्य सीरियल में एक 'प्रो हिन्दुत्व' और 'nationalist' एजेंडा दिखा। उन्हें आपत्ति थी कि क्यों सीरियल में 'भगवा' झंडों का उपयोग किया जाता है, क्यों बारंबार 'हर हर महादेव' के नारे लगाए जाते हैं......उन्हें ये सब आपत्तिजनक लगा। उन्होंने बताया कि ऐसा कोई ऐतिहासिक तथ्य (उनके कुंठित ज्ञान के अनुसार) नहीं जो ये साबित करे कि उस समय मगध के लोग युद्ध मे भगवा झंडों का उपयोग करते थे.....उन्होंने ये भी कहा कि 'हर हर महादेव' के नारे लगाने का भी कोई ऐतिहासिक सबूत नही है। चाणक्य सीरियल के निर्देशक Dr Chandra Prakash Dwivedi ने इन आपत्तियों को खारिज किया और उल्टा चम्पकलक्ष्मी से पूछा कि वे बताएं कि सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य की सेना उनके ऐतिहासिक तथ्यों के अनुसार किस रंग के झंडों का उपयोग करती है? और साथ ही इनके सबूत भी दिखाए। जैसा कि उम्मीद थी, आज तक इन सवालों के कोई जवाब नही दिए गए हैं। चम्पकलक्ष्मी ने क्या किया, उन्होंने वामपंथी एजेंडे के तहत भगवा झंडे पर सवाल उठाया, उन्होंने युद्धकाल में लगाये जाने वाले हमारे आराध्यों के नारों पर सवाल उठाए......क्यों? क्योंकि वामपंथी हमेशा ही राष्ट्रीयता और धार्मिक प्रतीकों से चिढ़ते हैं. उन्हें चिढ़ है भगवा रंग से, क्योंकि ये रंग हमेशा से शौर्य का प्रतीक रहा है हमारी संस्कृति में। उन्हें चिढ़ है हमारे आराध्यों के नारों से, क्योंकि उन्हें पता है इन नारों को लगाने से हमारा जुड़ाव हमारे धर्म से और बढ़ता है। वामपंथी ऐसे प्रतीकों का दोष आरएसएस की विचारधारा पर मंढ़ देते हैं, और आम जनता के बीच गलत संदेश देने की कोशिश करते हैं, और ये आज़ादी के बाद से चला आ रहा है, सैंकड़ो हजारों ऐसे उदाहरण हैं। JNU, DU और AMU में एक वामपंथी इतिहास माफिया कार्य करता है, इनका काम ही है हमारे इतिहास को विकृत करना, और अगर कोई सही इतिहास बताए तो उसे बदनाम करना और उसे बायकाट करना। चाणक्य सीरियल के साथ भी यही हुआ। इस इतिहास माफिया ने अपनी मशीनरी ( मीडिया, एकेडेमिया, सरकार, बॉलीवुड) का इस्तेमाल किया और एक धारणा को जन्म दिया। इन्होंने आरोप लगाया कि मगध साम्राज्य के समय (चौथी सदी), कोई भारत देश था ही नही, और ना लोगों मे देशभक्ति जैसी कोई भावना होती थी। इन लोगों ने चाणक्य सीरियल के निर्माताओं पर आरोप लगाया कि ये लोग झूठ फैला रहे हैं, और एक 'वृहद भारतीय पहचान' बनाने की कोशिश कर रहे हैं, जो उस समय नहीं हुआ करती थी। ABVP ने इस इतिहास माफिया को चुनाती दी, और कहा कि अगर अंग्रेजों द्वारा कथित रूप से 'भारत देश' बनाने से पहले अगर कुछ नही था, तो 15वीं सदी में वास्कोडिगामा 'किस' जगह की खोज करने के लिए आया था? वो भारत था या कोई अन्य देश था? वो कौन सा देश था जिसका वर्णन मेगस्थनीज ने अपने यात्रा वृत्तांतों में किया था? क्या वो भारत देश था? या अलग थलग पड़े हुए राजे रजवाड़े थे? उम्मीद के अनुसार, इन सवालों के कभी जवाब नही आये। दरअसल समस्या वामपंथियों के दर्शन में है। मार्क्सिस्ट थ्योरी के अनुसार देश एक स्टेट होता है जिस पर कोई सरकार शासन करती है, और जनता उनके बनाये नियमों का पालन करती है। सांस्कृतिक जुड़ाव और एकात्मकता की भावना से वामपंथ का दूर दूर तक कोई लेना देना नही होता। एक ऐसा क्षेत्र जिसमें अलग अलग बोली बोलने वाले, अलग धर्मों को मानने वाले लोग रहते हों, वृहद संस्कृति को मानने वाले लोग रहते हों, और उन पर किसी का राज हो या ना हो, ऐसा क्षेत्र वामपंथियों के लिए 'देश' नही होता। दरअसल यही तो भारत था, मुगलों और अंग्रेजो के आने से पहले। सम्राट अशोक ने क्या किया? उन्होंने एक महान देश की स्थापना की, उन्होंने छोटे बड़े राज्यों को सम्मिलित किया और अंत मे अपना राज्य ही त्याग कर दिया और सन्यास ने लिया। राज्य बनाना और उस पर शासन करना उनका एजेंडा नही था, एजेंडा तो यही था कि इस भूमि पर सभी एक हो कर रहें, एक देश की तरह रहें, जिसे भारत कहा जाता था, और ये कोई आज की धारणा नही थी, 5000 साल से पुराना इतिहास उठा कर देख लीजिए, यही मिलेगा। वामपंथियों के क्रियाकलाप यहीं नही रुके, एक समालोचक इकबाल मसूद तो एक कदम आगे ही बढ़ गए.....उन्होंने उस समय के माहौल को देखते हुए आरोप लगाया कि "आज के हिंसात्मक माहौल (90 के दशक के शुरुआती समय) में सीरियल में दिखाए गए ब्राह्मण (शिखा रखे हुए और सर मुंढाये हुए) और सीरियल में दिखाए गए वैदिक मंत्रों के उच्चारण से धार्मिक ध्रुवीकरण हो सकता है, और लोगों के (हिन्दुओं) के मन मे धर्म को लेकर उत्तेजना का संचार हो सकता है"। वामपंथियों ने ऐसे सैंकड़ों हथकंडे अपनाए, और तत्कालीन कांग्रेस सरकार पर जबरदस्त दबाव बनाया इस सीरियल को बन्द कराने के लिए, क्योंकि ये सीरियल उन इतिहास माफिया के बताए हुए प्रोपगंडे को तोड़ रहा था। अंततः कांग्रेस की सरकार दबाव में आई, और इस सीरियल को बन्द कर दिया गया। और इस तरह एक रिसर्च पर आधारित, alternative और असली इतिहास के दर्शन कराने वाला सीरियल, 'सेकुलरिज्म' की भेंट चढ़ गया।


Popular posts
अति दुःखद: *पूर्व विधायक आशा किशोर के पति का निधन* रायबरेली,सलोन विधान सभा के समाजवादी पार्टी की पूर्व विधायक आशा किशोर के पति श्याम किशोर की लंबी बीमारी के बाद लखनऊ के एक अस्पताल में निधन हो गया।इनकी उम्र लगभग 70 वर्ष की थी और पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे। स्व श्याम किशोर अपने पीछे पत्नी आशा किशोर सहित भरा पूरा परिवार छोड़ गए है। श्याम किशोर की अंत्येष्टि पैतृक गांव सुखठा, दीन शाहगौरा में किया गया।इस अवसर पर सपा के वरिष्ठ नेता रामबहादुर यादव, विधायक डॉ मनोज कुमार पांडे, आरपी यादव, भाजपा सलोन विधायक दल बहादुर कोरी, राम सजीवन यादव, जगेश्वर यादव, राजेंद्र यादव,अखिलेश यादव राहुल निर्मल आदि ने पहुंचकर शोक संतृप्त परिवार को ढांढस बंधाया। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
परिवहन निगम में झंडारोहण: *स्वतन्त्रता दिवस को रोडवेज मुख्यालय में गया मनाया,वीर सपूतों के त्याग,बलिदान को किया गया याद* लखनऊ, 74वें स्वतन्त्रता दिवस को रोडवेज मुख्यालय में अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा प्रशासनिक नियमों के साथ मनाया गया। इस पावन अवसर पर प्रबन्ध निदेशक महोदय ने भारत माता के वीर सपूतों के त्याग,बलिदान को याद किया,इसी क्रम में रोडवेज की तरफ प्रकाश डालते हुए समय-समय पर यात्रियों को विपरीत परिस्थितियों में तन,मन, धन से कोविड-19 में लगभग 35 लाख छात्रों/श्रमिकों को उनके गंतव्य स्थानों पर पहुचाने के सराहनीय कार्य को भी याद किया। इसीलिये माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश ने रोडवेज को नए नाम *संकट का साथी* नाम देकर संबोधित किया। जिसका रोडवेज के सभी अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा आभार व्यक्त किया।प्रबन्ध निदेशक महोदय ने संचालन व्यवस्था को दिनों दिन और वेहतर बनाये जाने के लिए समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों को प्रेरित करते हुये उपस्थित सभी अधिकारी/कर्मचारी को वधाई व शुभकामनाएं दी। झंडारोहण के मौके पर रोडवेज के अध्यक्ष/प्रमुख सचिव परिवहन श्री राजेश कुमार सिंह,डॉ०राजशेखर जी प्रबन्ध निदेशक महोदय एवं अन्य अधिकारी/कर्मचारी ने भाग लिया। कृत्य:नायाब टाइम्स *अस्लामु अलैकुम/शुभप्रभात* हैप्पी रविवार
Image
सेवा प्रबन्धक के कार्य करने का नायाब तरीका: *श्रीमती स्वेता सिंह ,सेवा प्रबंधक "बस स्टेशन केसरबाग" के कार्य करने का नायाब तरीका.* लखनऊ, उ०प्र०परि०निगम की तेज -तर्रार कर्मठ श्रीमती स्वेता सिंह (सेवा प्रबन्धक), उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम कैसरबाग बस स्टेशन के प्रबंधन की देख -रेख एक महिला हो कर इस प्रकार से करती है कि सभी खुश नज़र आते है, उनका मत है की कैसरबाग बस स्टेशन पर सभी डिपो के आने वाले परिचालक व चालक ज्यादा से ज्यादा परिवहन निगम के नियमानुसार कार्य पर ध्यान देते हुए स्व्च्छता/सफाई रखें । राजनीति से दूर रहे। तभी निगम कि सेवाएँ बेहतर होंगी और निगम के प्रति जनता में लोगों का विश्वास बढ़ेगा और निगम की उन्नती होगी। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
नवजात शिधू: *नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा जारी प्रेस नोट दिनांक 27 फरवरी 2020* दिल्ली,मुझे कांग्रेस पार्टी हाईकमान द्वारा दिल्ली तलब किया गया था। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी जी 25 फरवरी 2020 को अपने आवास पर 40 मिनट के लिए मुझसे मिली। अगले दिन (26 फरवरी 2020) को 10 जनपथ पर कांग्रेस अध्यक्ष और महासचिव एक घंटे से अधिक समय तक मुझसे मिले। दोनों नेताओं ने बहुत धैर्य के साथ मेरी बात सुनी। मैंने उन्हें पंजाब के मौजूदा हालात से अवगत कराया और पंजाब के पुनरुत्थान और आत्मनिर्भर बनाने का एक रोडमैप उनके साथ साझा किया, जिसपर चलकर हम पुनः पंजाब का गौरव स्थापित कर सकते हैं। यह वही रोड मैप है जिसको मैंने कैबिनेट में मंत्री के तौर पर कार्य करते हुए और अपने सार्वजनिक जीवन में, पिछले कई वर्षों से दृढ़ विश्वास के साथ लोगो के समक्ष रखा है। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
पच्चीसवे रोज़े : *लखनऊ* बलरामपुर हॉस्पिटल लखनऊ के जाने माने मशहूर *डॉ०एम०नसीर* (वरिष्ठ,ऑर्थो) ने लखनऊ जनपद के लोगो को से कहा.. "माहे रमज़ान मुबारक महीने के कि पच्चीसवे रोज़े की तहेदिल से मुबारकबाद" साथ ही गज़ारिश है कि *कोविड-19* का खतरा अभी बना हुआ है आप सभी 'घरों में इबाबत करें जो आप और मुल्क व अवाम के लिए बेहतर है' आज का दिन "मृत्यु लोक के ईस्वर स्वरूप" चिकित्सको व उनके स्टाफ़ एवं पुलिस कर्मियों,सफाई कर्मी व *लॉक डाउन-चौथे चरण* में डियूटी पर मुस्तेद कर्मचारियों के नाम......! "31 मई 2020 तक "लॉक डाउन" की नई शर्तो के साथ लगभग पहले ही जैसा अब 3 जोन से बढ़ाकर 5 जोन बनाये गए, 1- रेड , 2- ग्रीन, 3- ऑरेंज, 4- कंटेन्मेंट व 5- वफर हैं। जिसका पालन देश प्रदेश एवं लखनऊ वासी अपने घरों में शांतिपूर्ण नियम से कर सुरक्षित रहे और दूसरों को भी रहने की सलाह दे एवं जिला अधिकारी अपने विवेक का इस्तेमाल कर स्थिति को सुधारेंगे, तभी तो *कोरोना महामारी* की जंग में विजय प्राप्ती हो। जय हिन्द जय भारत.....! कृत्य:नायाब टाइम्स *अस्लामु अलैकुम/शुभप्रभात* हैप्पी मंगलवार
Image