पांचवें सिख गुरु श्री गुरु अर्जुन देव जी को शहीदों के सरताज कहा जाता है। आप शांति के पुंज, मानवता के सच्चे सेवक, धर्म के रक्षक, शांत और गंभीर स्वभाव के स्वामी तथा अपने युग के सर्वमान्य लोकनायक थे। जन कल्याण के लिए आप ने जो कार्य किए वे अपनी मिसाल आप हैं। वह दिन-रात संगत की सेवा में लगे रहते थे। उनके मन में सभी धर्मों के प्रति अथाह स्नेह था। श्री गुरु अर्जुन देव जी सिख धर्म के पहले शहीद थे। उस वक्त के हुक्मरानों को सिख धर्म का दिनों-दिन बढऩा रास नहीं आ रहा था। इसी ईर्ष्या के कारण बिना किसी दोष गुरु जी को शहीद कर दिया गया। आप जी के बाद गुरु हरगोबिंद साहिब ने शांति के साथ-साथ हथियारबंद सेना तैयार करना बेहतर समझा तथा मीरी-पीरी का संकल्प देते हुए श्री अकाल तख्त साहिब की रचना की। श्री गुरु अर्जुन देव जी का प्रकाश श्री गुरु रामदास जी के गृह में माता भानी जी की कोख से वैशाख बदी 7 सम्वत् 1620 मुताबिक 15 अप्रैल 1563 ई को गोइंदवाल साहिब में हुआ। इनका पालन-पोषण गुरु अमरदास जी जैसे गुरु तथा बाबा बुड्ढा जी जैसे महापुरुषों की देख-रेख में हुआ। इन्होंने गुरु अमरदास जी से गुरमुखी की शिक्षा हासिल की। गोइंदवाल साहिब जी की धर्मशाला से आपने देवनागरी, पंडित बेणी से संस्कृत तथा अपने मामा मोहरी जी से गणित विद्या हासिल की। आपके मामा मोहन जी ने आप को ध्यान लगाने की विधि सिखाई। यह बचपन से ही बहुत शांत स्वभाव तथा पूजा भक्ति करने वाले थे। जब आप छोटे थे उसी समय गुरु अमरदास जी ने भविष्यवाणी की थी कि यह बालक बहुत बाणी की रचना करेगा। गुरु जी ने कहा था ‘दोहिता बाणी का बोहिथा’। आप जी ने बचपन के साढ़े 11 वर्ष गोइंदवाल साहिब में ही बिताए तथा उसके बाद गुरु रामदास जी अपने परिवार को अमृतसर साहिब ले आए। इनकी शादी 16 वर्ष की आयु में जिला जालंधर के गांव मौ साहिब में कृष्ण चंद की पुत्री माता गंगा जी के साथ हुई। गुरु रामदास जी के तीन सुपुत्र बाबा महादेव, बाबा पृथी चंद तथा गुरु अर्जुन देव जी थे। गुरु रामदास जी ने हर तरह की जांच पड़ताल करने के बाद एक सितम्बर 1581 ई. को जब गुरु अर्जुन देव जी को गुरु गद्दी सौंप दी तो पृथी चंद नाराज हो गया। गुरु गद्दी संभालने के बाद गुरु अर्जुन देव जी ने लोक भलाई तथा धर्म प्रचार के कामों में तेजी ला दी। आप ने गुरु रामदास जी द्वारा शुरू किए गए सांझे निर्माण कार्यों को प्राथमिकता दी। संतोखसर तथा अमृतसर जी के विकास कार्यों को और भी तेज कर दिया। अमृत सरोवर के बीच आप ने हरिमंदिर साहिब जी (स्वर्ण मंदिर अमृतसर) का निर्माण कराया, जिसका शिलान्यास 3 जनवरी 1588 को मुसलमान फकीर साई मियां मीर जी से करवाया और धर्म निरपेक्षता का सबूत दिया। आप जी ने नए नगर तरनतारन साहिब, करतारपुर साहिब (निकट जालंधर), छहर्टा साहिब, श्री हरगोबिंदपुर आदि बसाए। हरिमंदिर साहिब के चार दरवाजे इस बात के प्रतीक हैं कि हरिमंदिर साहिब हर धर्म-जाति वालों के लिए खुला हुआ है। ‘उपदेश चहुं वरना को सांझा’। तरनतारन साहिब में एक विशाल सरोवर का निर्माण कराया जिसके एक तरफ तो गुरुद्वारा साहिब और दूसरी तरफ कुष्ठ रोगियों के लिए एक दवाखाना बनवाया। यह दवाखाना आज तक सुचारू रूप से चल रहा है। गांव-गांव में कुंओं का निर्माण कराया। सुखमणि साहिब की भी रचना की। संपादन कला के गुणी गुरु अर्जुन देव जी ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का संपादन भाई गुरदास की सहायता से किया। उन्होंने रागों के आधार पर श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी में संकलित वाणियों का जो वर्गीकरण किया है, उसकी मिसाल मध्यकालीन धार्मिक ग्रंथों में दुर्लभ है। यह उनकी सूझबूझ का ही प्रमाण है कि श्री ग्रंथ साहिब जी में 36 महान वाणीकारों की वाणियां बिना किसी भेदभाव के संकलित हुईं। श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के कुल 5894 शब्द हैं जिनमें 2216 शब्द श्री गुरु अर्जुन देव जी महाराज के हैं और 15 हिन्दू तथा मुसलमान संतों भक्त कबीर जी तथा बाबा फरीद जी, हिन्दू संतों भक्त नामदेव जी, भक्त रविदास जी, भक्त धन्ना जी, भक्त पीपा जी, भक्त सैन जी, भक्त भीखन जी, भक्त परमांनद जी, भक्त रामानंद जी आदि के अलावा सत्ता, बलवंड, बाबा सुंदर जी तथा भाई मरदाना जी व 11 भाटों की बाणी दर्ज है। पवित्र बीड़ रचने का कार्य सम्वत् 1660 में शुरू हुआ तथा 1661 सम्वत को यह कार्य संपूर्ण हो गया। श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रथम प्रकाश श्री हरिमंदिर साहिब जी में भाद्रपद सुदी एक सम्वत 1661 को किया गया, जिनके मुख्य ग्रंथी की जिम्मेवारी बाबा बुड्ढा जी को सौंपी गई। गुरु जी के प्रचार के कारण सिख धर्म तेजी से फैलने लगा। जब जहांगीर बादशाह बना तो पृथी चंद ने उसके साथ नजदीकियां बढ़ानी शुरू कर दीं। जहांगीर गुरु जी की बढ़ती लोकप्रियता को पसंद नहीं करता था। उसे यह बात बिल्कुल पसंद नहीं आई कि गुरु अर्जुन देव जी ने उसके भाई खुसरो की मदद क्यों की थी। जहांगीर अपनी जीवनी ‘तुज़के जहांगीरी’ में स्वयं भी यह लिखता है कि वह गुरु अर्जुन देव जी की बढ़ रही लोकप्रियता से आहत था, इसलिए उसने गुरु जी को शहीद करने का फैसला कर लिया। गुरु अर्जुन देव जी को लाहौर में 30 मई 1606 ई. को भीषण गर्मी के दौरान ‘यासा व सियासत’ कानून के तहत लोहे की गर्म तवी पर बिठाकर शहीद कर दिया गया। ‘यासा व सियासत’ के अनुसार किसी व्यक्ति का रक्त धरती पर गिराए बिना उसे यातनाएं देकर शहीद किया जाता है। गुरु जी के शीश पर गर्म-गर्म रेत डाली गई। जब गुरु जी का शरीर अग्नि के कारण बुरी तरह से जल गया तो आप जी को ठंडे पानी वाले रावी दरिया में नहाने के लिए भेजा गया, जहां गुरु जी का पावन शरीर रावी में आलोप हो गया। जहां आप ज्योति ज्योत समाए उसी स्थान पर लाहौर में रावी नदी के किनारे गुरुद्वारा डेरा साहिब (जो अब पाकिस्तान में है) का निर्माण किया गया है। गुरु अर्जुन देव जी ने लोगों को विनम्र रहने का संदेश दिया। आप विनम्रता के पुंज थे। कभी भी आपने किसी को भी दुर्वचन नहीं बोले। गुरु अर्जुन देव जी का संगत को एक और बड़ा संदेश था कि परमेश्वर की रजा में राजी रहना। उमदातुत तवारीख का लिखारी लिखता है कि गुरु जी की शहादत को लिखते हुए कलम लहू के आंसू बहाती है, आंखें रोती हैं, दिल फटता है और जान हैरान होती है। जब आपको जहांगीर के आदेश पर आग के समान तप रही तवी पर बिठा दिया, उस समय भी आप परमेश्वर का शुक्राना कर रहे थे : ‘तेरा कीया मीठा लागै॥ हरि नामु पदार्थ नानक मांगै॥’


Popular posts
हैप्पी बर्थडे शिवा कान्त द्विवेदी जी: Lucknow,"Happy Birthday" Aaj hamare apnye shathi Shiva Kant Dwivedi (sr,IAS) 57,years old.up government k Adhikari ka janam din hai.es Khushi me unko bahut bahut'Mubarak Baad' Happy Birthday Shivkant Dwivedi Ji jiyou saalo saal ye duwaa hai meri happy zindagi. by: Nayab Times.
Image
Schi baat:*खरी बात * संस्कारी औरत का शरीर केवल उसका पति ही देख सकता है। लेकिन कुछ कुल्टा व चरित्रहीन औरतें अपने शरीर की नुमाइश दुनियां के सामने करती फिरती हैं। समझदार को इशारा ही काफी है। इस पर भी नारीवादी पुरुष और नारी दोनों, कहते हैं, कि यह पहनने वाले की मर्जी है कि वो क्या पहने। बिल्कुल सही, अगर आप सहमत हैं, तो अपने घर की औरतों को, ऐसे ही पहनावा पहनने की सलाह दें। हम तो चुप ही रहेंगे।
Image
डीईओ ने मतदान : *डीईओं ने एमएलसी निर्वाचन के मतदान कार्मिकों का द्वितीय प्रशिक्षण में निर्वाचन सम्बन्धी दी महत्वपूर्ण जानकारियां स्नातक व शिक्षक निर्वाचन को निष्पक्ष, निर्भीक,सकुशल, शान्ति पूर्ण तरीके से सम्पन्न कराने की सभी अन्तिम तैयारियां रखे दुरूस्त:वैभव श्रीवास्तव* रायबरेली,"सू०वि०रा०" दिनाँक:27,नवम्बर,2020 को जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने फिरोजगांधी डिग्री कालेज के आडिटोरियम हाल में लखनऊ खण्ड स्नातक/खण्ड शिक्षण निवाचर्न क्षेत्र से उत्तर प्रदेश विधान परिषद दिवार्षिक निर्वाचन को सकुशल, शान्तिपूर्ण तरीके से 1 दिसम्बर को मतदान सम्पन्न कराने की सभी अन्तिम तैयारियों को दुरूस्त रखने के साथ ही मतदान कार्मिकों के द्वितीय प्रशिक्षण में निर्वाचन को सकुशल सम्पन्न कराने सम्बन्धित महत्वपूर्ण जानकारी दी। मतदान कार्मिक अपने कार्यो को टीम भावना से भली-भांति अंजाम दें। अब मतदान की तिथि निकट है। स्वयं तथा दूसरों को भी आदर्श आचार सहिता का अनुपालन करायें। मास्टर टेªनर्स पीठासीन अधिकारी, मतदान अधिकारी, माइक्रो आब्जरवर, सेक्टर मजिस्ट्रेट तथा अन्य निवार्चन कार्य से जुड़े कार्मिक प्रशिक्षण को भली-भांति देकर मतदान की बारीकियों से अवगत कराकर उन्हें पूरी तरह से पारंगत करवा दें। जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी ने सेक्टर मजिस्टेªट, जोनल मजिस्टेªट तथा पीठासीन अधिकारी/माइक्रो आॅब्जर्वर तथा सभी मतदान कार्मिक प्रशिक्षण में सामान्य प्रशिक्षण के साथ मतपेटी खोलना, बन्द करना व सील करना व अन्य महत्वपूर्ण परिपत्रों के बारे में आदि का भली-भांति प्रशिक्षण लें ले। किसी भी निर्वाचन की सफलता के लिए मतदान कार्मिकों का प्रशिक्षण बेहतर होना जरूरी है। मास्टर टेªनर्स द्वारा प्रशिक्षण को भली-भांति दिलाया जाये। प्रशिक्षण दिलाये जाने में कोई कमी न रहे। मतदान 1 दिसम्बर को है अब चंद दिन ही बचे है। अतः सभी तैयारियां प्रशासनिक/पुलिस से सम्बन्धित सभी व्यवस्थाओं को दुरूस्त रखें तथा निर्वाचन में लगे निर्वाचन ड्यूटी में लगे पीठासीन अधिकारी, मतदान अधिकारी, माइक्रो आब्जरवर, सेक्टर मजिस्टेªट, प्रभारी अधिकारी, सहायक प्रभारी अधिकारी तथा सभी गठित टीमें अपने को पूरी तरह से सक्रिय रहकर अपने कार्यो को भली-भांति अंजाम दे। लखनऊ खण्ड स्नातक/खण्ड शिक्षक विधान परिषद 2020 दिवार्षिक निर्वाचन को निष्पक्ष, निर्भीक, सकुशल, शान्तिपूर्ण तरीके से सम्पन्न कराये। पोलिंग पार्टिया जीआईसी इण्टर कालेज से 30 नवम्बर को रवाना होनी है। जिसकी सम्पूर्ण तैयारियों को कमी न रहे। कोविड-19 कोरोना संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए गाइड लाइन का पूरी तरह से पालन किया जाए। निर्वाचन कार्याे में किसी प्रकार की चूक न हो, पूरी तरह से सतर्क व गम्भीरता से कार्य करें। प्रशिक्षण में बताई गयी बातों को समझें व प्रशिक्षण पुस्तिका तथा निर्वाचन आयोग द्वारा निरन्तर दिये जा रहे निर्देशों को कई बार पढे़। पूरी निर्वाचन प्रकिया में कई तरह से चरणवार कार्य करने होते हैं इस बात का विशेष ध्यान रखें कि निर्वाचन की पवित्रता व निष्पक्षता भंग न होने पाए। निर्वाचन से पहले व निर्वाचन के बाद तक क्रमवार कब क्या करना है और क्या नहीं करना है इस बात को चिन्तन कर लें। इस मौके बीएसए आनन्द प्रकाश शर्मा, पीडी प्रेम चन्द्र पाण्डेय, एसडीएम विनय मिश्रा, सहायक निर्वाचन अधिकारी अजय कुमार, उपनिदेशक सूचना प्रमोद कुमार सहित सभी मतदान कार्मिक मौजूद थे। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
वैभव श्रीवास्तव जिला मजिस्ट्रेट ने कहा: *सरकार द्वारा निर्गत एस0ओ0पी0 दिशा निर्देश गाइडलाइन का पालन करते हुए कार्तिक पूर्णिमा मेले में दीपदान कराये जाने के निर्देश:वैभव* रायबरेली,जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने उप जिलाधिकारी डलमऊ/मेला अधिकारी को निर्देश दिये है कि जनपद में आयोजित होने वाले कार्तिक पूर्णिमा मेला को वर्तमान में कोविड-19 के संक्रमण के प्रार के दृष्टिगत स्थगित किये जाने का निर्णय लिया गया था। शासन के निर्देशानुसार जन सामान्य की आस्था का सम्मान करते हुए इस वर्ष प्रस्तावित कार्तिक पूर्णिमा मेला डलमऊ के अवसर पर कोविड-19 महामारी के प्रसार पर नियंत्रण के सम्बन्ध में भारत सरकार व राज्य सरकार द्वारा निर्गत एस0ओ0पी0/दिशा निर्देश व गाइडलाइन का समुचित अनुपालन अनिवार्य रूप से सुनिश्चित करते हुए दीपदान किये जाने के निर्देश दिये गये है। जिलाधिकारी ने एसडीएम डलमऊ को उक्त के क्रम में निर्गत एस0ओ0पी0/दिशा निर्देश व गाइडला.इन का समुचित अनुपालन अनिवार्य रूप से करते हुए नियामानुसार कार्यवाही करें। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
Upsrtc.: *उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के मुख्य महाप्रबंधक (प्रशासनिक) 'वरिष्ठ पी.सी.एस' श्री विजय नारायण पाण्डेय 31 मई को होंगे रिटायर* लखनऊ। उ.प्र. परिवहन निगम के मुख्य महाप्रबंधक (प्रशासनिक) विजय नारायण पांडेय (वरिष्ठ पी.सी.एस.) ने दिनाँक 20 दिसम्बर 2018 को इस पद का पदभार संभाला था और वो 5 महीना 11 दिन की सेवा करने के बाद 31 मई 2019 को विभाग को अच्छी अनुभवी जानकारियां देते हुए अपने पद से रिटायर हो जाएंगे। उनके परिवहन निगम के कार्य कलाप की सभी अधिकारियों ने सराहना की। श्री पांडेय का मत है कि अधिकारी को विभाग के हित में ही काम करना चाहिए। उन्होंने कहा हमारे बास श्री संजीव सरन वरिष्ठ आई.ए.एस., चेयरमैन, श्री धीरज शाहू वरिष्ठ,आई.ए.एस. ट्रांसपोर्ट कमिश्नर, प्रबंध निदेशक राधे श्याम आई.ए.एस. अपर प्रबंध निदेशक से भी हमको कुछ नई जानकारियां मिली जो एक नसीहत ही है। परिवहन निगम के आशुतोष गौड़ स्टाफ ऑफिसर, पर्सनल असिस्टेंट प्रबंध निदेशक व अनवर अंजार (जनसंपर्क अधिकारी, परिवहन निगम) ने भी अपने अधिकारी श्री वी. एन. पाण्डेय की प्रशंसा करते हुए बताया कि पाण्डेय जी के साथ काम करना एक नायाब अनुभव के बराबर है। अब शायद ही ऐसा अधिकारी हमारे बीच आये। - नायाब अली
Image