क्या महत्वपूर्ण बात है:यदि आपको लगता है कि सरकारी अस्पताल में डॉक्टर मरीज को अच्छे से नहीं देखते हैं ? और आपको लगता है कि सरकारी अस्पताल में डॉक्टर प्यार से बातें नहीं करते है ! जब आप इलाज के दौरान सरकारी अस्पताल की तुलना प्राइवेट अस्पताल या प्राइवेट डॉक्टर से करते हैं, तो आपको सरकारी मरीज और प्राइवेट मरीजों के आचरण व विश्वास की तुलना भी करनी चाहिये। जब आप सरकारी अस्पताल में एक रुपये का पर्चा बनवाने जाते है, जिसे काफी लोग अपनी तौहीन समझते हैं। तभी आप मान लेते है, कि यहाँ ठीक वीक नहीं होना है। कुछ मुफ्त की जांचे और कुछ सरकारी दवायें मिल जायेंगी। नहीं ठीक होगा तो कहीं प्राइवेट दिखायेंगे। प्राइवेट अस्पताल में तीन से पांच सौ रूपये का पर्चा बनते ही आप का ह्रदय श्रद्धा भाव से परिपूर्ण हो जाता है। मरीज और परिजन सोचते है कि पैसा जरुर लग रहा है लेकिन यहॉ ठीक हो जायेंगे | सरकारी अस्पताल में मरीज सस्ता पर्चा टेढा मेढा कर के डॉक्टर के कमरे में बगैर पूछे ही घुस जाता है और जल्दी से देखने का दबाब बनाने लगता है| जबकि यही मरीज प्राइवेट अस्पताल में जहाँ महंगा पर्चा बनता है, वहाँ बड़ी सावधानी और श्रद्धा भाव से वार्डबॉय (चतुर्थ श्रेणी का कर्मी) से करीब करीब गिड़गिड़ाते हुये अंदाज में पहले पूछता हैं, फिर अपनी बारी की प्रतीक्षा में चुपचाप घंटों बैठे रहता हैं, इस दौरान कोई नेता, अभिनेता, पत्रकार की कोई सिफारिस उसे याद नहीं आती है। फिर अपने क्रम पर अंदर जाते वक़्त मन ही मन, अंदर जाके क्या क्या क्या बताना है तैयार कर लेता है ताकि कोई चीज छूट न जाय, क्योंकि इसके बाद आज पुनः घुसने को शायद ही मिले । सरकारी अस्पताल में आप फ्री की दवायें और फ्री की जॉचें कराने के लिये डॉक्टर को घेर कर विभिन्न प्रकार का दबाव बनाते है और तरह तरह की बातें कहने लगते हैं। डॉक्टर को नौकर की तरह आदेश देने लगते हैं, मुंह में बदबूदार गुटखा और हाथ में बजता मोबाइल फोन लिये हुए डॉक्टर को सभ्यता और संस्कार का पाठ सिखाने लगता हैं। डॉक्टर की किसी भी प्रतिक्रिया पर पत्रकार और नेताओं का जमावड़ा इकट्ठा कर लेता है। यहाँ तक कि राजकीय चिकित्सक से गाली गलौज और मारने पीटने में भी कोई परहेज नहीं करता। प्राइवेट अस्पताल का पर्चा सालों साल सम्भाल के रखते है, जबकि सरकारी अस्पताल का पर्चा चार दिन भी चल जाये तो बहुत बडा एहसान। सरकारी अस्पताल में किसी बजह से अगर अपने ऊपर दो पैसे भी खर्च करने पड़े, तो मा मुख्यमंत्री जी के पोर्टल से लेकर तहसील दिवस तक बेपनाह शिकायतें। प्राइवेट अस्पताल में खर्चा तो सामान्य सी बात है। जरूरत से ज्यादा थके सरकारी डॉक्टर को हर हाल में गालियॉ खाते हुये और डर के साये भी प्रेम और श्रद्धा भाव से मुस्करा के काम करते हुए अक्सर देखा जाता है। वर्तमान समय में राजकीय चिकित्सक की स्थिति धोबी, नाई, कहार से भी बदतर है। आये दिन स्वयं दुर्व्यवस्था के कारक लोग हमें सार्वजनिक रूप से नसीहत देते हैं। मरीज देखने के साथ हमें मेला डयूटी, रैली डयूटी, आकस्मिक डयूटी, बाढ़, भूकम्प और दुर्घटनाग्रस्त क्षेत्र की डयूटी के साथ साथ पोस्टमार्टम की डयूटी आदि आदि करनी पड़ती है। "सुख में सुमिरन कोऊ न करें, दुःख में करें सब याद। फिर भी मेरे कुछ कहने पर करते हैं विवाद।।'' फिर भी हम नकारा हैं! डा० आशुतोष कुमार दुबे चिकित्सा अधीक्षक डा० श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) हॉस्पिटल लखनऊ


Popular posts
जोहा ने पास किया: *जोहा ने स्टेंडर्ड मैथ लेकर 92.1% मार्क्स हाईस्कूल में लाई* फतेहपुर, जानेमाने वरिष्ठ पत्रकार शकील अहमद सिद्दीकी की दुलारी बेटी जो महर्षि विद्या मंदिर फतेहपुर की छात्रा जोहा सिद्दीकी ने हाईस्कूल मे स्टेंडर्ड मैथ लेकर 92.1% मार्क्स प्राप्त कर सिद्दीकी परिवार का नाम रोशन कर गौरव बढ़ाया। इष्ट मित्रों ने दी जोहा सिद्दीकी को हार्दिक शुभकामनाएं व मुबारकबाद। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
Upsrtc.: *उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के मुख्य महाप्रबंधक (प्रशासनिक) 'वरिष्ठ पी.सी.एस' श्री विजय नारायण पाण्डेय 31 मई को होंगे रिटायर* लखनऊ। उ.प्र. परिवहन निगम के मुख्य महाप्रबंधक (प्रशासनिक) विजय नारायण पांडेय (वरिष्ठ पी.सी.एस.) ने दिनाँक 20 दिसम्बर 2018 को इस पद का पदभार संभाला था और वो 5 महीना 11 दिन की सेवा करने के बाद 31 मई 2019 को विभाग को अच्छी अनुभवी जानकारियां देते हुए अपने पद से रिटायर हो जाएंगे। उनके परिवहन निगम के कार्य कलाप की सभी अधिकारियों ने सराहना की। श्री पांडेय का मत है कि अधिकारी को विभाग के हित में ही काम करना चाहिए। उन्होंने कहा हमारे बास श्री संजीव सरन वरिष्ठ आई.ए.एस., चेयरमैन, श्री धीरज शाहू वरिष्ठ,आई.ए.एस. ट्रांसपोर्ट कमिश्नर, प्रबंध निदेशक राधे श्याम आई.ए.एस. अपर प्रबंध निदेशक से भी हमको कुछ नई जानकारियां मिली जो एक नसीहत ही है। परिवहन निगम के आशुतोष गौड़ स्टाफ ऑफिसर, पर्सनल असिस्टेंट प्रबंध निदेशक व अनवर अंजार (जनसंपर्क अधिकारी, परिवहन निगम) ने भी अपने अधिकारी श्री वी. एन. पाण्डेय की प्रशंसा करते हुए बताया कि पाण्डेय जी के साथ काम करना एक नायाब अनुभव के बराबर है। अब शायद ही ऐसा अधिकारी हमारे बीच आये। - नायाब अली
Image
डागामर वाहनों को : *जॉइंट चेकिंग ने सीट क्षमता से अधिक यात्री ढो रही डग्गामार वाहन को पकड़कर की कार्यवाही,मचा हड़कंप* लखनऊ, शासन प्रशासन द्वारा सभी प्रकार के वाहनों में सीट क्षमता से अधिक यात्रियों को कोरोना काल मे मना किया है,इसके बाबजूद भी डग्गामार वाहन दिल खोलकर क्षमता से अधिक यात्री भरकर रोड पर फर्राटा भर रही है।आज दिनांक 20 अगस्त को एआरटीओ सिद्धार्थ यादव,पीटीओ आशुतोष उपाध्याय और एआरएम चारबाग अमरनाथ सहाय ने लखनऊ पीजीआई थाना के सामने डग्गामार वाहनों की छापेमारी करते हुए प्राइवेट बस नम्बर यू०पी०51-ए०टी० 2232 जो बिहार से दिल्ली जा रही 42 सीटर डग्गामार बस जिसमें 107 यात्री सवार थे को पकड़कर सीज कर दिया। और यात्रियों को चारबाग डिपो की बसों में ट्रांसफर कर आलमबाग बस स्टेशन पर भेज दिया। इस बस के पकड़े जाने के बाद डग्गामार वाहनों के संचालकों में हाहाकार मच गया। कृत्य:नायाब टाइम्स *अस्लामु अलैकुम/शुभरात्रि*
Image
मास्क वितरण: *रोडवेज के एमडी राजशेखर जी ने प्रख्यात सभी अखबार के मीडिया स्टाफ कर्मियों को उनके ऑफिस जाकर वितरित किये मास्क* लखनऊ,"शहरे अवध लखनऊ" उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के सुपरमैन डॉ० राजशेखर "प्रबंध निदेशक" ने नव भारत टाइम्स,टाइम्स ऑफ इंडिया,हिंदुस्तान 'अंग्रेज़ी' हिंदुस्तान,दैनिक जागरण,अमर उजाला,स्वतंत्र भारत एवं सभी हिंदी अंग्रेजी अखबारो के स्टाफ कर्मियों व मुख्य डिस्टिब्यूटर और हाकर्स को एक एक 1000 मास्क वितरित किये। यह मास्क अखबारों को घर-घर पहुचाने वालों से लेकर संपादक,डिस्टिब्यूटर तक के कर्मियों को दिया। *कृत्य:नायाब टाइम्स*
Image
मृत्यु लोक पे नायाब बनकर रहो: *मृत्यु लोक पे नायाब बनाकर वरना सिकन्दर भी....!* रायबरेली,काबिले तारीफ़ है डॉ०आर०बी०वर्मा "वरिष्ठ शल्यक" *राज नर्सिंगहोम* सी०-201,आवास विकास कॉलोनी, इंदिरानगर रायबरेली व डॉ०मुम्मताज अहमद हमारे 45 वर्ष पुराने दोस्तों में से एक है। शहर मे नाम के साथ अच्छी पहचाना उनके अनुभवो के साथ उपचार करने के कारण मरीज़ो के बीच है । एक मुलाकात के दौरान उन्होंने कहा ज़िन्दगी हो तो नायाब जैसी वरना मृत्युलोक में सिकन्दर भी था। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image