Nashtiq.:हरियाणा के रवि कुमार ने 29 अप्रैल को दो साल की लंबी लड़ाई के बाद सरकार से ‘नो कास्ट, नो रिलीजन, नो गॉड सर्टिफिकेट’ का हासिल कर लिया है. सरकार ने इस प्रमाण पत्र में लिखकर दिया है कि रवि कुमार किसी जाति, धर्म और किसी भगवान से नाता नहीं रखते हैं. फतेहाबाद के टोहाना तहसील के रहने वाले 33 वर्षीय रवि ने देश का संभवतया पहला ऐसा सर्टिफिकेट हासिल किया है. उन्होंने दिप्रिंट को बताया कि उनसे वर्ल्ड रिकॉर्ड वालों ने भी संपर्क किया है. उन्हें यह सर्टिफिकेट 29 अप्रैल टोहाना के तहसीलदार के कार्यालय से जारी किया गया है. अपनी इस ज़िद की वजह से वो नौकरी खो चुके हैं और जातिगत भेदभाव झेल चुके हैं. वो अपनी नौकरी छोड़ने वाला किस्सा सुनाते हुए कहते हैं, ‘मेरी नौकरी टोहना के ही जाटों के गांव समैण में कॉनट्रैक्ट बेस पर लगी थी. मैं पशुओं के अस्पताल में काम करता था. मेरे वहां जाने के 6 महीने बाद कई भैंसें मर गईं. गांववालों ने कहा कि ये नास्तिक है इसलिए ऐसा हुआ. वहां आरएसएस से जुड़े कुछ लोगों ने कहना शुरू कर दिया कि मेरी वजह से ऐसा हो रहा है. उसके बाद मैं वो नौकरी छोड़ कर आ गया. वहां लोग कहने लगे थे कि इसके हाथ का पानी भी नहीं पियेंगे.’ उनका मानना है कि बचपन के कुछ किस्सों ने उन्हें नास्तिक बनने के लिए प्रेरित किया. जब चार साल के थे तो पड़ोसी बच्चों से मारपीट हो गई. आगे वो बताते हैं, ‘मेरे दादाजी कृष्ण को मानते थे. कहते थे कि मुसीबत में वही साथ देता है. लेकिन उस दिन मैंने कृष्ण को याद किया लेकिन फिर भी मुझे चार बच्चों ने पीट दिया. दूसरा मेरा मोहभंग दिवाली पूजा के दौरान हो गया. सब कहते थे कि लक्ष्मी आएगी. दरवाज़ा खुला रखो. एक बार मैंने जागकर सब देखा. लक्ष्मी तो आई नहीं, लेकिन चूहा ज़रूर आया.’ ‘जाति नाम की भी कोई चीज़ होती है ये तब पता चला जब स्कूल में मास्टर ने जाति पूछी. मैंने घर आकर कहा कि जाति क्यों होती है तो घरवालों ने कहा कि ये तो पागल है. जब रवि टोहना के ही आइजी कॉलेज में पढ़ रहे थे तो वहां जातियों का रुतबा भी देख लिया. कॉलेज के अपने अनुभवों को बताते हैं, ‘कॉलेज में गया तो यहां भी वही हाल. पढ़ाई-लिखाई से कोई मतलब नहीं. बस अपनी जाति के नाम से दबंगई.’ रवि को कुछ सालों पहले ही पता चला है कि भगत सिंह भी नास्तिक थे. भीम राव अंबेडकर से भी रवि को प्रेरणा मिलती है. जह ये केस लड़ना शुरू किया तो घरवालों ने पैसे देने से मना कर दिया और घर छोड़कर जाने की भी धमकी दी. ऐसे में रवि ने मज़दूरी करके पैसे जुटाने शुरू किए. 2017 के आखिर से शुरू हुई ये लड़ाई जनवरी 2018 में आकर सफल हुई और टोहना कोर्ट ने उन्हें अपने नाम के साथ नास्तिक लिखने की अनुमति दी. लेकिन अब अप्रैल 2019 में उनका सर्टिफिकेट भी जारी कर दिया है. हालांकि रवि से पहले तमिलनाडू की स्नेहा ने नो कास्ट नो रिलिजन का सर्टिफिकेट 9 साल की लंबी लड़ाई के बाद फरवरी 2019 में हासिल कर लिया था. स्नेहा पेशे से वकील हैं और उनके परिवार में कोई भी जाति या धर्म जैसी चीजों में विश्वास नहीं रखता. इस पूरे प्रकरण में तहसीलदार भी बाकी लोगों की तरह तंग करते रहे. जब रवि ने उपायुक्त धीरेंद्र खडगड़ा से संपर्क किया और अपना पक्ष बताया तो उपायुक्त ने पूरी तहकीकात करवाई. तहकीकात में पाया गया कि रवि पर ना ही कोई आपराधिक मामला दर्ज है और ना ही विदेश से कोई संपर्क. इसके बाद डीसी ने तहसीलदार को लेटर लिखकर रवि का सर्टिफिकेट जारी करने को कहा. रवि बताते हैं, मुझे अन्ना हजारे की तरह ही सोशल चेंज मेकर का सर्टिफिकेट भी मिला हुआ है. मैं यहां से जात-पात मिटा देना चाहता हूं. समाज ने दुत्कारा वो अलग बात है लेकिन रवि के सामने एक और चुनौती है. अपना जीवन साथी ढूंढना. घर पर कई रिश्ते आए लेकिन जैसे ही नास्तिक वाला मामला पता चलता है तो बात आगे ही नहीं बढ़ पाई. जब उन्होंने कहा कि दहेज नहीं लूंगा और कोर्ट में शादी करूंगा तो लड़की वाले मना कर जाते. अब उनका कहना है कि अगर कोई मेरी तरह की लड़की मिलेगी जो जाति-धर्म या भगवान को नहीं मानती होगी तो उसी से शादी करूंगा. उनकी महिला मित्र भी हैं जिनको समाज से लड़-भिड़ कर अपने लक्ष्य पूरे करने पड़ रहे हैं. रवि इसपर भी चिंता ज़ाहिर करते हैं. केजरीवाल से नाराज़ ... भगवान को न मानने वाले रवि राजनेताओं के बात बात पर भगवान के दर जा कर चुनावी राजनीति करने से भी बहुत शुब्ध है. दि प्रिंट को उन्होंने कहा, ‘मैंने पांच-सात दिन पहले अरविंद केजरीवाल को नोटिस भेजा है. 2014 में ये भगत सिंह की तरह क्रांतिकारी चुनाव प्रचार कर रहे थे. अभी कुछ दिन पहले केजरीवाल कह रहे हैं कि दिल्ली में 70 सीटों में से 67 सीटों पर जीतना किसी देवी-देवता का ही आशीर्वाद है. ये लोग जनता को गुमराह कर रहे हैं. जनता ने जिताया है या देवी-देवता ने? रवि आगे कहते हैं, ‘2014 के आसपास मैं आम आदमी पार्टी से जुड़ा था. 11 दिन अनशन भी किया. उस वक्त भी मुझे इनकी देवी-देवता वाली बातें अटपटी लगती थीं. मतलब आप भी बाकी पार्टियों की तरह ही देवी-देवता करने लगे हो. कोई पिछले दिनों श्राप दे रहा था. मैंने केजरीवाल के पीए को फोन किया कि मेरे नोटिस का जवाब नहीं आया. तो पीए ने धमकाने वाले लहजे में बात की. मैंने उनकी बातें रिकॉर्ड कर ली हैं. पिछले तीन साल से रवि एक किताब पर काम कर रहे हैं. उनका कहना है कि वो किताब का नाम तो नहीं बता पाएंगे लेकिन इसका विषय जीवन है. नास्तिक होने की पहचान ने भले ही उन्हें समाज से हैरेस करवाया हो लेकिन रवि अब अपनी पहचान को हाथों पर टैटू के रूप में लेकर चलते हैं. फेसबुक पर भी उन्होंने अपना नाम रवि एथिस्ट लिखा हुआ है. रवि समाज कल्याण का काम करना चाहते हैं. उनके फोन की रिंगटोन है- किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार किसी का दर्द मिल सके तो ले उधार किसी के वास्ते हो तेरे दिल में प्यार जीना इसी का नाम है।


Popular posts
Schi baat:*खरी बात * संस्कारी औरत का शरीर केवल उसका पति ही देख सकता है। लेकिन कुछ कुल्टा व चरित्रहीन औरतें अपने शरीर की नुमाइश दुनियां के सामने करती फिरती हैं। समझदार को इशारा ही काफी है। इस पर भी नारीवादी पुरुष और नारी दोनों, कहते हैं, कि यह पहनने वाले की मर्जी है कि वो क्या पहने। बिल्कुल सही, अगर आप सहमत हैं, तो अपने घर की औरतों को, ऐसे ही पहनावा पहनने की सलाह दें। हम तो चुप ही रहेंगे।
Image
पराली न जलाए: *पराली और कृषि अपशिष्ट आदि सहित फसलों के ठंडल भी न जलाये अन्यथा होगी दण्डात्मक कार्यवाही:वैभव श्रीवास्तव* रायबरेली,जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने मा0 राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण द्वारा फसल अवशेष/पराली जलाने को दण्डनीय अपराध घोषित करने की सूचना के बाद भी जनपद के कुछ किसानों द्वारा पराली जलाने की अप्रिय घटनाए घटित की जा रही है, जिसके क्रम में उत्तर प्रदेश शासन के साथ ही मा0 उच्चतम न्यायालय एवं मा0 हरित न्यायालयकरण (एन0जी0टी0) द्वारा कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये है, जनपद के समस्त कृषकों एवं जनपदवासी पराली (फसल अवशेष) या किसी भी तरह का कूड़ा, जलाने की घटनाये ग्रामीण एंव नगरी क्षेत्र घटित होती है तो ऐसे व्यक्तियों के विरूद्ध आर्थिक दण्ड एवं विधिक कार्यवाही के साथ ही उनकों देय समस्त शासकीय सुविधाओं एवं अनुदान समाप्त करते हुए यदि वे किसी विशेष लाइसेंस (निबन्धन) के धारक है तो उसे भी समाप्त किया जायेगा और ग्राम पंचायत निर्वाचन हेतु अदेय प्रमाण पत्र भी नही दिया जायेगा। इसके साथ ही घटित घटनाओं से सम्बन्धित ग्राम प्रधान, राजस्वकर्मी, लेखपाल, ग्राम पंचायत अधिकारी एवं ग्राम विकास अधिकारी तथा कृषि विभाग के कर्मचारी एवं पुलिस विभाग से सम्बन्धित हल्का प्रभारी के विरूद्ध कठोर दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी। मा0 राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण द्वारा पारित आदेश में कृषि अपशिष्ट को जलाये जाने वाले व्यक्ति के विरूद्ध नियमानुसार अर्थदण्ड अधिरोपित किये जाने के निर्देश है। राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण द्वारा राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण अधिनियम की धारा-15 के अन्तर्गत पारित उक्त आदेशों का अनुपालन अत्यन्त आवश्यक है अन्यथा इसी अधिनियम की धारा 24 के अन्तर्गत आरोपित क्षतिपूर्ति की वसूली और धारा-26 के अन्तर्गत उल्लघंन की पुनरावित्त होने पर करावास एवं अर्थदण्ड आरोपित किया जाना प्राविधनित है एवं एक्ट संख्या 14/1981 की धारा 19 के अन्तर्गत अभियोजन की कार्यवाही कर नियमानुसार कारावास या अर्थदण्ड या दोनों से दण्डित कराया जायेगा। उक्त आदेश के अनुपालन में लेखपाल द्वारा क्षतिपूर्ति की वसूली की धनराशि सम्ब.न्धित से भू-राजस्व के बकाया की भांति की जायेगी। ग्राम सभा की बैठक में पराली प्रबन्धन एवं पराली एवं कृषि अपशिष्ट जैसे गन्ने की पत्ती/गन्ना, जलाने पर लगने वाले अर्थदण्ड एवं विधिक कार्यवाही के बारे में बताया कि कोई भी व्यक्ति कृषि अपशिष्ट को नही जलायेगा तथा कृषि अपशिष्ट जलाने पर तत्काल सम्बन्धित थाने पर सूचना दी जायेगी एवं आर्थिक दण्ड विधिक कार्यवाही करायी जायेगी। जिलाधिकारी ने कहा है कि किसान पराली व कृषि अपशिष्ट जैसे गन्ने की सूखी पत्ती या फसलों के डंठल इत्यादि न जलायें। पराली और कृषि अपशिष्ट न जलाने पर तहसील व विकास खण्ड, ग्राम स्तरों पर जागरूकता कार्यक्रम चलाकर आम आदमी को जागरूक भी किया जाये। उन्होंने कहा कि पराली जलाने पर पूरी तरह से शासन द्वारा पाबंदी लगाई गई है। शासन के निर्देशानुसार जनपद में पराली जाने पर कड़ी से अनुपालन भी कराया जा रहा है। कृत्य:नायाब टाइम्स *अस्लामु अलैकुम/शुभरात्रि*
Image
एल-1 अस्पताल का निरीक्षण: *एल-1 चिकित्सालय का निरीक्षण करते हुए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव कोविड एल-1 चिकित्सालय का किया गया निरीक्षण* रायबरेली,आज दिनाँक-18 सितम्बर, 2020 मा0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार व जिला एवं सत्र न्यायाधीश अब्दुल शाहिद की अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण रायबरेली के दिशा-निर्देशन में पूर्वाहन 11ः30 बजे रेयान इण्टरनेशनल स्कूल को एल1 क्षेणी के अस्पताल के रूप में स्थापित किया गया है एल 1 में रखे गये कोरोना के मरीजों की उचित देख-रेख के सम्बन्ध में मयंक जायसवाल सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 वीरेन्द्र सिंह की देख-रेख में हुई। एल 1 हास्पिटल में वर्तमान में कुल 133 मरीज है। महिलाये 25 पुरुष 101 व 15 वर्ष से कम उम्र के 7 बच्चे है जिनका उपचार चल रहा है। सचिव द्वारा वहां दिये जाने वाले खाने के पैकेट को खोलकर उसमें दिये हुए खाने की गुणवत्ता का परीक्षण किया गया। निरीक्षण के समय मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 वीरेन्द्र सिंह व प्रभारी डा0 आनन्द गुप्ता पुरुष पराविधिक स्वयं सेवक पवन श्रीवास्तव द्वारा पुरुषों से व पराविधिक स्वयं सेविका अमिता गुप्ता द्वारा उपस्थित महिलाओं व बच्चों से उनकी समस्याओं के सम्बन्ध में पूछताछ की गयी। वहाँ उपस्थित महिला मरीज रानी पुत्री दुर्गा प्रसाद, पंकज यादव पुत्र शिवकरन यादव, शिल्पी रानी, आशीष अवस्थी ने बताया कि खाना, नाश्ता सही समय पर सही मिल रहा है। अस्पताल में साफ-सफाई की व्यवस्था सही मिली। मरीज मनीष अवस्थी द्वारा बताया गया कि नीचे की दो शौचालय चोक है जिसे साफ करवाने का आश्वासन प्रभारी अधिकारी द्वारा दिया गया। मरीजों की विधिक सहायता पैनल अधिवक्ता जय सिंह यादव उपस्थित रहे। मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया गया कि मरीजों की देख-रेख हेतु उचित कदम उठाये व उनकी किसी समस्या का त्वरित निस्तारण करे। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
X.PM.: कुछ लोग ज़मीन पर राज करते हैं और कु्छ लोग दिलों पर. मरहूम राजीव गांधी एक ऐसी शख़्सियत थे, जिन्होंने ज़मीन पर ही नहीं, बल्कि दिलों पर भी हुकूमत की. वह भले ही आज इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन हमारे दिलों में आज भी ज़िंदा हैं और हमेशा ज़िन्दा रहेंगे... 🙏🏻🌹🙏🏻 स्वर्गीय राजीव गांधी को भावभीनी श्रद्धांजली...💐
Image
ग़ालिब की याद :*अंजुमन तर्कक्की उर्दू * लखनऊ। अंजुमन तरक्की उर्दू की जानिब आज अमीनाबाद हाजी नियामत उल्ला बिल्डिंग में आम और ग़ालिब पर एक नशिस्त हुई।जिसकी सदारत चौधरी शरफुद्दीन साहब व निज़ामत महमूद ज़फ़र रहमानी साहब ने किया।इस नशिस्त में शहर व बाहर से लोग भी शामिल हुये।जिनमे सीनियर एडवोकेट जफरयाब जीलानी,शारिब रूदौलवी,डॉक्टर सुल्तान शाकिर हाशमी व शहर की कई समाजिक लोग शामिल हुये। इस नशिस्त में लोगो ने उर्दू ज़ुबान को बढ़ावा देने पर ज़ोर दिया गया।उर्दू ज़ुबान मीठी ज़ुबान है लोगो को जोड़ती भी,लोगो से उर्दू अखबार खुद को पढ़ने के साथ लोगो को भो पढ़ने के लिये कहे,बाद आम व ग़ालिब पर लोगो ने शेर पढ़े।
Image