निरीक्षण प्रबन्ध निदेशक का: *उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक द्वारा कैसरबाग बस स्टेशन को जाम से निजात दिलाने के लिए परिवहन निगम की भूमि जानकीपुरम विस्तार एवं कमता पर बस स्टेशन बनाने के लिए अपनी टीम के साथ किया निरीक्षण* *लखनऊ* उ०प्र०परि० निगम के प्रबंध निदेशक डॉ० राज शेखर (वरिष्ठ आई०ए०एस०) एवं उपाध्यक्ष, लखनऊ विकास प्राधिकरण लखनऊ, श्री प्रभु नारायण सिंह (आई०ए०एस०) के द्वारा द्वारा कैसरबाग बस स्टेशन पर परिवहन निगम की बसों द्वारा जाम से निजात दिलाने के लिए जानकीपुरम विस्तार में प्रस्तावित बस स्टेशन एवं कमता का सयुंक्त निरीक्षण किया गया। कैसरबाग बस स्टेशन से विभिन्न मार्गों पर संचालित होने बाली 1400 बसों के आवागमन होने के बजह से अत्यंत जाम की स्थिति बनी रहती है, जानकीपुरम विस्तार योजना के सेक्टर-ई में भूखण्ड संख्या सीपी-13 बस स्टेशन हेतु लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा 05 एकड़ भूमि को बस स्टेशन के प्रयोग हेतु आरक्षित किया गया है। इस भूखंड के चारो तरफ मार्ग है। उक्त भूखंड के दोनों तरफ 24 मीटर डिवाइडर रोड है,जिससे बसों का आवागमन आसानी से कराया जा सकता है। प्रस्तावित बस स्टेशन से सीतापुर मार्ग होकर जाने बाली बरेली, मुरादाबाद व उत्तराखंड राज्य के देहरादून,ऋषिकेश,हरिद्वार,टनकपुर की बसों का संचालन कराने से लगभग 800 प्रस्थानों से 60% दवाब कम हो सकेगा तथा 14 किमी० प्रति बस संचालन कम होगा जिससे विभाग और यात्रियों को के किराए में भी इजाफा होगा, वहीं कमता बस स्टेशन से पूर्वांचल की ओर संचालित होने वाली फैज़ाबाद,गोरखपुर,देवीपाटन एवं पूर्वांचल से कानपुर जाने वाली बसे शहीद पथ होते हुए और पूर्वांचल से दिल्ली की ओर जाने वाली बसों को रिंग रोड होते हुए प्रस्थान करेंगी, इससे पूर्वांचल की बसों को संचालन करने पर आलमबाग की 29 किमी० और कैसरबाग की लगभग 12 किमी० दूरी कम होगी जिससे यात्रियों पर किराये का बोझ कम होगा तथा जन सामान्य को सुविधाजनक बस स्टेशन उपलब्ध हो जाएगा एवं शहर को जाम की स्थिति से बचाया जा सकेगा। *नायाब टाइम्स*


Popular posts
Schi baat:*खरी बात * संस्कारी औरत का शरीर केवल उसका पति ही देख सकता है। लेकिन कुछ कुल्टा व चरित्रहीन औरतें अपने शरीर की नुमाइश दुनियां के सामने करती फिरती हैं। समझदार को इशारा ही काफी है। इस पर भी नारीवादी पुरुष और नारी दोनों, कहते हैं, कि यह पहनने वाले की मर्जी है कि वो क्या पहने। बिल्कुल सही, अगर आप सहमत हैं, तो अपने घर की औरतों को, ऐसे ही पहनावा पहनने की सलाह दें। हम तो चुप ही रहेंगे।
Image
दीप जलाकर प्रकाश पर्व : *एस०पी०जी०आई० के चिकित्सको की कोरोना पर विजय,कनिका की छठी जाँच रिपोर्ट आई निगेटिव* लखनऊ,एस०पी०जी०आई० में 20मार्च से लगातार कोरोना पॉजिटिव कनिका कपूर और डॉक्टरों के बीच चल रहा युद्ध अब समाप्ति के कगार पर आ गया है,लगातार पाँच जाँच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद भी डॉक्टरों ने हार नही मानी और लगातार कनिका का उपचार करते रहे। छठी रिपोर्ट निगेटिव आने पर कनिका के परिजनों और डॉक्टरों में खुशी की लहर दौड़ गयी और कनिका को दुबारा ज़िन्दगी खुद को पहचान ने पर ईस्वर की दया से दान स्वरूपइस मिली । *इस घटना ने एक बात तो सत्य साबित कर दी है कि कोरोना से बचाव हर संभव है।* इस उदाहरण से सभी देश वासियों के बीच एक संदेश जा रहा है कि सरकार द्वारा दिये गए निर्देशों का पालन करते रहने से कोरोना जैसी प्राणघातक महामारी पर विजय पाना कोई मुश्किल काम नही। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
RTI: एक और खबर जरा हट के ... 🤔🤔🤔🤔 वाह खट्टर साहब वाह .. क्या जवाब मिला है आपकी सरकार से !!! चंडीगढ़: सूचना का अधिकार (RTI) के तहत मांगी गई जानकारी से पता चला है कि हरियाणा सरकार के पास मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर राज्य सरकार के कई कैबिनेट मंत्रियों और राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य की नागरिकता से जुड़े दस्तावेज नहीं हैं. 20 जनवरी को पानीपत के रहने वाले एक्टिविस्ट पी.पी. कपूर ने इस संबंध में जानकारी पाने के लिए RTI दाखिल की थी. इस RTI में उन्हें जो जवाब मिला, वह काफी हैरान करने वाला था. पी.पी. कपूर की RTI में हरियाणा की पब्लिक इंफॉर्मेशन ऑफिसर पूनम राठी ने कहा कि उनके रिकॉर्ड में इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है. उन्होंने कहा, 'माननीयों के नागरिकता संबंधी दस्तावेज चुनाव आयोग के पास हो सकते हैं.' बताते चलें कि पिछले साल सितंबर में विधानसभा चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने वादा किया था कि वह अवैध प्रवासियों को हरियाणा से निकालने के लिए राज्य में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) लागू करेंगे.
Image
मंगलमय : *आपको और आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएं* मैं ईस्वर से प्राथना करता हूँ कि मृत्यु लोक पर आप स्वस्थ रहें। "होली के इस पर्व पर आप का जीवन हमेशा रंगों की तरह खिलता व महकता रहे,आपके वे सारे सपने पूरे हो जो आप के अपनो ने परिवार के साथ देखे हो !" नायाब अली लखनवी "सम्पादक"
Image
लॉक डाउन 17 मई 2020 तक: *उत्तर प्रदेश के विभाजित जिलों में सरकार द्वारा दी गयी अलग-अलग गाइडलाइन* भारत सरकार द्वारा जारी की गई अलग-अलग क्षेत्रों में गाइडलाइन 3मई के बाद लागू हो जाएगी,जिसमे आम जनमानस को कुछ छूट होगी। *रेड जोन* रेड जोन के जिलों में जारी गाइडलाइन के अनुसार, चार पहिया वाहन में ड्राइवर सहित 2 लोग ही बैठ सकेंगे। औद्योगिक क्षेत्रों में जैसे जरूरी संसाधन शोसल डिस्टनसिंग का पालन करते हुए कार्य कर सकेंगी। सड़क निर्माण का कार्य भी सोशल डिस्टनसिंग का पालन करते हुए शुरू हो जाएगा। कालोनियों में ज़रूरत के सामानों की दुकाने भी बिना भीड़ लगाए खुलने के लिए भी अनुमति दे दी गयी है। प्राइवेट स्तर के कार्यालय 33℅ कर्मचारियों के साथ भी खुलने की अनुमति प्रदान की गई है। *ऑरेंज ज़ोन* ऑरेंज ज़ोन में ऑटो रिक्शा में मात्र एक यात्री को बैठाने की अनुमति प्रदान की गई है। दो पहिया वाहन पर मात्र अकेले चालक दारा ही चलने की अनुमति दी गयी है। *ग्रीन ज़ोन* रेड जोन,ऑरेंज ज़ोन में मिली छूट के अतिरिक्त बसों में 50% ही यात्रियों को बैठकर सभी यात्रियों को मास्क लगाकर चलने की अनुमति दी गयी है। उक्त सभी ज़ोन में स्कूल, कॉलेज,मॉल,सिनेमा हाल,होटल,रेस्टोरेंट, भीड़भाड़ बाली सभी जगहों जैसे धार्मिक स्थलों, 65 वर्ष के महिला/पुरुषों एवं 10 वर्ष के बच्चों को अनुमति प्रदान नही की गई है। सभी क्षेत्रों में शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक आपातकाल को छोड़कर घर से निकलना प्रतिवंधित रहेगा। *कृत्य:नायाब टाइम्स*
Image