नेचरी एवं माँ बाप ही सत्य है: सन् 610 से पहले न कोई अल्लाह था न कोई मुहम्मद। न मुग़ल के हिन्दुस्तान आने से पहले न कोई हिंदुस्तान में मुसलमान था न कभी किसी ने नही सुना। फिर अल्लाह कहाँ से आया???? जबकि अल्लाह को किसी ने देखा ही नहीं???? उसका रंग??? उसका साईज?? वो दिखता कैसा हैं???? लेकिन अल्लाह आ गया??? मुर्ख हिन्दू आज भी अल्लाह को भगवान की श्रेणी देते हैं। कहते हैं खुदा हैं और हमसे ही लड़ पड़ते हैं। ठीक हैं। तुम तो वैसे भी मुर्ख हो जो इस प्रकार का बात करते हो। जो रामपाल, रामरहिम और राधे माँ को भगवान् बनाये हुए हैं। लोग उसके लिये लड़ रहे हैं। जब पोल खुलती हैं तो मुँह लटका लेते हैं लेकिन उसको भगवान् बनाने से पहले कभी सोचते नहीं???? ठीक इसी राधे माँ की तरह यीशु और मुहम्मद भी थे???? उस समय संचार का साधन और जानकारी के आभाव में लोग ने उसे भगवान् बना दिया। अभी भी दिमाग नहीं खुला होगा ???? तो बता दूं इस्लाम से पहले भी हिन्दू था लेकिन इस्लाम,अल्लाह नहीं था??? ईसाई से पहले भी हिन्दू था लेकिन ईसाई, यीशु नहीं था??? अब आता हूँ अपने हिन्दू अर्थात् सनातन_धर्म पर। श्री कृष्ण से पहले भी हिन्दू था, श्री राम से पहले भी हिन्दू था, हनुमान जी से भी पहले भी हिन्दू था। यानी हिंदुत्व अर्थात सनातन धर्म करोड़ों सालों से था !!! लेकिन हिंदुत्व से पहले कोई धर्म था ये कोई बता सकता हैं क्या?????? आज से 1400 साल पहले इस्लाम धर्म बना, आज से 2000 साल पहले ईसाई धर्म बना, आज से 2600 साल पहले बौद्ध धर्म बना । ये सभी पंथ है जो एक व्यक्ति द्वारा चलाये गए हैं और एक समाज इनके बताये रस्ते पर है इसलिए ये पंथ कहलातें हिन्दू धर्म को गोलमाल करने के लिए ही इन सबको धर्म धर्म कर चिल्लाना शुरू कर दिया गय दिमाग खुला अभी भी या नहीं??? Confusion में मत जियो पहले सत्य जानों। कोई ये बता सकता हैं कि हिंदुत्व सनातन धर्म कब बना???? वेद से बढ़ा ज्ञान का प्रवाह। जिससे लोग माँ और पिताजी। क और ख बोलना शुरू किया। वेदों में हैं वो विज्ञान जिसे पढ़कर आइंस्टिन और न्यूटन वैज्ञानिक बने।


Popular posts
Schi baat:*खरी बात * संस्कारी औरत का शरीर केवल उसका पति ही देख सकता है। लेकिन कुछ कुल्टा व चरित्रहीन औरतें अपने शरीर की नुमाइश दुनियां के सामने करती फिरती हैं। समझदार को इशारा ही काफी है। इस पर भी नारीवादी पुरुष और नारी दोनों, कहते हैं, कि यह पहनने वाले की मर्जी है कि वो क्या पहने। बिल्कुल सही, अगर आप सहमत हैं, तो अपने घर की औरतों को, ऐसे ही पहनावा पहनने की सलाह दें। हम तो चुप ही रहेंगे।
Image
गुरुनानक देव जयन्ती बधाई: मृत्यु लोक के सभी जीव जंतु पशु पक्षी प्राणियों को स्वस्थ शरीर एवं लम्बी उम्र दे खुदा आज के दिन की *💐🌹*गुरु नानक जयन्ती पर देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं/लख लख मुबारक।*💐🌹 * हो.. रब से ये दुआ है कि आपके परिवार में खुशियां ही खुशियाँ हो आमीन..! अपने अंदाज में मस्ती से रहा करता हूँ वो साथ हमारे हैं जो कुछ दूर चला करते हैं । हम आज है संजीदा बेग़म साहेबा के साथ.....! *अस्लामु अलैकुम/शुभप्रभात* हैप्पी सोमवार
Image
स्पोर्ट्समैन जाफ़र के सम्मान में क्रिकेट मैच: *जाफ़र मेहदी वरिष्ठ केन्द्र प्रभारी कैसरबाग डिपो कल 30 नवम्बर 2020 सोमवार को सेवानिवृत्त हो जाएगे उनके सम्मान में क्रिकेट मैच परिवहन निगम ने आयोजित किया* लखनऊ, उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के स्पोर्ट्समैन जाफ़र मेहंदी जो 30 नवम्बर 2020 को सेवानिवृत्त हो जाएंगे को "मुख्य महाप्रबंधक प्रशासन" सन्तोष कुमार दूबे "वरि०पी०सी०एस०" द्वारा उनके सम्मान में क्रिकेट मैच आयोजित कर उनका सम्मान किया जायेगा , जिसमें एहम किरदार पी०आर०बेलवारिया "मुख्य महाप्रबंधक "संचालन" व पल्लव बोस क्षेत्रीय प्रबन्धक-लखनऊ एवं प्रशांत दीक्षित "प्रभारी स०क्षे०प्रबन्धक" हैं जो * अवध बस स्टेशन कमता लखनऊ* के पद पर तैनात हैं , इस समय *कैसरबाग डिपो* के भी "प्रभारी स०क्षे०प्र०" हैं। कैसरबाग डिपो के वरिष्ठ केन्द्र प्रभारी जाफ़र मेहदी साहब दिनाँक,30 नवम्बर 2020 को कल सेवानिवृत्त हो जायेगे। जाफ़र मेहदी साहब की भर्ती स्पोर्ट्स कोटा के तहत 1987 में परिवहन निगम में हुई थी। जो पछले तीन सालो से दो धारी तलवार के चपेट कि मार झेल रहे थे अब आज़ादी उनके हाथ लगी मेंहदी साहब नायाब ही नहीं तारीफे काबिल हैं उनकी जितनी भी बड़ाई की जाय कम हैl कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
जाफ़र मेहंदी की बल्ले बल्ले: * परिवहन निगम के वरिष्ठ खिलाड़ी जाफर मेंहदी के सम्मान में एक मैत्री मैच का आयोजन किया गया। मैच के मुख्य अतिथि एस के दुबे "मुख्य प्रधान प्रबन्धक प्रशासन"* लखनऊ,आज दिनांक 29 नवम्बर 2020 को कॉल्विन क्रिकेट ग्राउंड पर परिवहन निगम के वरिष्ठ खिलाड़ी जाफर मेंहदी के सम्मान में एक मैत्री मैच का आयोजन किया गया । इस मैच के मुख्य अतिथि एस के दुबे (मुख्य प्रधान प्रबंधक प्रशासन) थे । मुख्य प्रधान प्रबंधक प्राविधिक जयदीप वर्मा एवं प्रधान प्रबंधक संचालक सुनील प्रसाद भी मौजूद रहे । इस मैच में परिवहन निगम मुख्यालय ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए योगेंद्र सेठ की 79 रन की शानदार पारी की बदौलत 20 ओवर में 141 रन बनाए । जवाब में खेलने उतरी कैसरबाग डिपो की टीम ने सुनील मिश्रा के नाबाद 51 व नितेश श्रीवास्तव के 25 रन की बदौलत 19.4 ओवरों में लक्ष्य हासिल कर लिया । मुख्यालय की तरफ से मनोज श्रीवास्तव ने दो व जयदीप वर्मा ने एक विकेट लिया । कैसरबाग की तरफ से रजनीश मिश्रा ने 4 ओवरों में 17 रन देकर एक विकेट , नितेश श्रीवास्तव ने एक विकेट लिया । अंत में प्रधान प्रबंधक प्रशासन ने *जाफर मेहंदी* को सम्मानित किया । *योगेंद्र सेठ* को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया । मुख्यालय की तरफ से टीम का नेतृत्व जयदीप वर्मा व कैसरबाग डिपो की तरफ से टीम का नेतृत्व शशिकांत सिंह ने किया । कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
मुत्यु लोक का सच:*आचार्य रजनीश* (१) जब मेरी मृत्यु होगी तो आप मेरे रिश्तेदारों से मिलने आएंगे और मुझे पता भी नहीं चलेगा, तो अभी आ जाओ ना मुझ से मिलने। (२) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आप मेरे सारे गुनाह माफ कर देंगे, जिसका मुझे पता भी नहीं चलेगा, तो आज ही माफ कर दो ना। (३) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आप मेरी कद्र करेंगे और मेरे बारे में अच्छी बातें कहेंगे, जिसे मैं नहीं सुन सकूँगा, तो अभी कहे दो ना। (४) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आपको लगेगा कि इस इन्सान के साथ और वक़्त बिताया होता तो अच्छा होता, तो आज ही आओ ना। इसीलिए कहता हूं कि इन्तजार मत करो, इन्तजार करने में कभी कभी बहुत देर हो जाती है। इस लिये मिलते रहो, माफ कर दो, या माफी माँग लो। *मन "ख्वाईशों" मे अटका रहा* *और* *जिन्दगी हमें "जी "कर चली गई.*
Image