दशरथ मांझी इक नाम:*भारत रत्न के असली हक़दार विहार के दशरथ मांझी हुए वंचित* विहार के गहलौर गांव के निवासी दशरथ मांझी बहुत ही गरीब परिवार से थे, दिन रात मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार का भरण-पोषण करते थे। गांव में आमदनी के स्रोत कम होने के कारण दशरथ मांझी यौवनावस्था में धनवाद में स्थित एक कोल फैक्ट्री में काम करने चले गए थे, धनवाद से वापस आने के बाद दशरथ मांझी के माता-पिता ने फागुनी देवी से विवाह करवा दिया, विवाह के उपरांत मांझी परिवार की जिम्मेदारी की बजह से धनवाद बापस जाकर फैक्ट्री में काम नही कर सका और अपने गाँव मे ही परिवार के साथ खेती किसानी करने लगे। एक दिन खेत मे काम करते समय फागुनी देवी के सर में चोट लग गयी जिसमें से काफी खून का बहाव हो रहा था,गहलौर से गया जाने के लिए घूम के जा रहे रास्ते की दूरी 55 किमी० थी जबकि गहलौर से सीधे रास्ते पर 110 मी० और 9 मी० चौड़े पहाड़ की बजह से रास्ता बंद था जिसकी दूरी मात्र 15 किमी० दूर थी, मजबूरी में गहलौर गाँव के निवासी 55 किमी० का लंबा रास्ता गया जाने के लिए करते थे। इसी बजह से मांझी भी अपनी पत्नी फागुनी देवी को 55 किमी० लंबे रास्ते से लेकर शहर गये थे, अस्पताल पहुचते पहुचते फागुनी देवी के सर से काफी खून बह जाने से उनकी म्रत्यु हो गयी। बेचारा मांझी बेसुध हो गया और बापस गांव आकर अपनी पत्नी का दाह संस्कार किया,उसके बाद मांझी ने उस विशाल पहाड़ को हटवाने के लिए शहर में बड़े बड़े नेताओ को अवगत कराया लेकिन किसी ने कुछ नही सुना,अंत मे मांझी ने छेनी और हथौड़ी से विशाल पहाड़ को हटाने का प्रण किया और घर से निकलकर अपना डेरा उसी पहाड़ पे पास बना लिया, 22 वर्ष के लगातार मेहनत के दौरान पूरा पहाड़ मांझी ने हटाकर रास्ता बना दिया इस वीच गाँव बालों ने तरह-तरह से मांझी का उपहास किया परंतु मेहनत की मिशाल कायम कर मांझी ने इतिहास रच दिया था, अब गाँव के सभी लोग शहर मात्र 15 किमी० का रास्ता तय करके पहुचने लगे थे, जब इसके बारे में सरकार को पता लगा तब विहार सरकार ने 2006 में दशरथ मांझी को पदम श्री से सम्मान किया परंतु भारत रत्न के हकदार मांझी भारत रत्न से बंचित रह गए, मांझी के गाल ब्लैडर में कैंसर होने की बजह से 2007 में मांझी ने अपने प्राण त्याग दिए। *कृत्य: नायाब टाइम्स*


Popular posts
Schi baat:*खरी बात * संस्कारी औरत का शरीर केवल उसका पति ही देख सकता है। लेकिन कुछ कुल्टा व चरित्रहीन औरतें अपने शरीर की नुमाइश दुनियां के सामने करती फिरती हैं। समझदार को इशारा ही काफी है। इस पर भी नारीवादी पुरुष और नारी दोनों, कहते हैं, कि यह पहनने वाले की मर्जी है कि वो क्या पहने। बिल्कुल सही, अगर आप सहमत हैं, तो अपने घर की औरतों को, ऐसे ही पहनावा पहनने की सलाह दें। हम तो चुप ही रहेंगे।
Image
गुरुनानक देव जयन्ती बधाई: मृत्यु लोक के सभी जीव जंतु पशु पक्षी प्राणियों को स्वस्थ शरीर एवं लम्बी उम्र दे खुदा आज के दिन की *💐🌹*गुरु नानक जयन्ती पर देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं/लख लख मुबारक।*💐🌹 * हो.. रब से ये दुआ है कि आपके परिवार में खुशियां ही खुशियाँ हो आमीन..! अपने अंदाज में मस्ती से रहा करता हूँ वो साथ हमारे हैं जो कुछ दूर चला करते हैं । हम आज है संजीदा बेग़म साहेबा के साथ.....! *अस्लामु अलैकुम/शुभप्रभात* हैप्पी सोमवार
Image
स्पोर्ट्समैन जाफ़र के सम्मान में क्रिकेट मैच: *जाफ़र मेहदी वरिष्ठ केन्द्र प्रभारी कैसरबाग डिपो कल 30 नवम्बर 2020 सोमवार को सेवानिवृत्त हो जाएगे उनके सम्मान में क्रिकेट मैच परिवहन निगम ने आयोजित किया* लखनऊ, उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के स्पोर्ट्समैन जाफ़र मेहंदी जो 30 नवम्बर 2020 को सेवानिवृत्त हो जाएंगे को "मुख्य महाप्रबंधक प्रशासन" सन्तोष कुमार दूबे "वरि०पी०सी०एस०" द्वारा उनके सम्मान में क्रिकेट मैच आयोजित कर उनका सम्मान किया जायेगा , जिसमें एहम किरदार पी०आर०बेलवारिया "मुख्य महाप्रबंधक "संचालन" व पल्लव बोस क्षेत्रीय प्रबन्धक-लखनऊ एवं प्रशांत दीक्षित "प्रभारी स०क्षे०प्रबन्धक" हैं जो * अवध बस स्टेशन कमता लखनऊ* के पद पर तैनात हैं , इस समय *कैसरबाग डिपो* के भी "प्रभारी स०क्षे०प्र०" हैं। कैसरबाग डिपो के वरिष्ठ केन्द्र प्रभारी जाफ़र मेहदी साहब दिनाँक,30 नवम्बर 2020 को कल सेवानिवृत्त हो जायेगे। जाफ़र मेहदी साहब की भर्ती स्पोर्ट्स कोटा के तहत 1987 में परिवहन निगम में हुई थी। जो पछले तीन सालो से दो धारी तलवार के चपेट कि मार झेल रहे थे अब आज़ादी उनके हाथ लगी मेंहदी साहब नायाब ही नहीं तारीफे काबिल हैं उनकी जितनी भी बड़ाई की जाय कम हैl कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
जाफ़र मेहंदी की बल्ले बल्ले: * परिवहन निगम के वरिष्ठ खिलाड़ी जाफर मेंहदी के सम्मान में एक मैत्री मैच का आयोजन किया गया। मैच के मुख्य अतिथि एस के दुबे "मुख्य प्रधान प्रबन्धक प्रशासन"* लखनऊ,आज दिनांक 29 नवम्बर 2020 को कॉल्विन क्रिकेट ग्राउंड पर परिवहन निगम के वरिष्ठ खिलाड़ी जाफर मेंहदी के सम्मान में एक मैत्री मैच का आयोजन किया गया । इस मैच के मुख्य अतिथि एस के दुबे (मुख्य प्रधान प्रबंधक प्रशासन) थे । मुख्य प्रधान प्रबंधक प्राविधिक जयदीप वर्मा एवं प्रधान प्रबंधक संचालक सुनील प्रसाद भी मौजूद रहे । इस मैच में परिवहन निगम मुख्यालय ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए योगेंद्र सेठ की 79 रन की शानदार पारी की बदौलत 20 ओवर में 141 रन बनाए । जवाब में खेलने उतरी कैसरबाग डिपो की टीम ने सुनील मिश्रा के नाबाद 51 व नितेश श्रीवास्तव के 25 रन की बदौलत 19.4 ओवरों में लक्ष्य हासिल कर लिया । मुख्यालय की तरफ से मनोज श्रीवास्तव ने दो व जयदीप वर्मा ने एक विकेट लिया । कैसरबाग की तरफ से रजनीश मिश्रा ने 4 ओवरों में 17 रन देकर एक विकेट , नितेश श्रीवास्तव ने एक विकेट लिया । अंत में प्रधान प्रबंधक प्रशासन ने *जाफर मेहंदी* को सम्मानित किया । *योगेंद्र सेठ* को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया । मुख्यालय की तरफ से टीम का नेतृत्व जयदीप वर्मा व कैसरबाग डिपो की तरफ से टीम का नेतृत्व शशिकांत सिंह ने किया । कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
मुत्यु लोक का सच:*आचार्य रजनीश* (१) जब मेरी मृत्यु होगी तो आप मेरे रिश्तेदारों से मिलने आएंगे और मुझे पता भी नहीं चलेगा, तो अभी आ जाओ ना मुझ से मिलने। (२) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आप मेरे सारे गुनाह माफ कर देंगे, जिसका मुझे पता भी नहीं चलेगा, तो आज ही माफ कर दो ना। (३) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आप मेरी कद्र करेंगे और मेरे बारे में अच्छी बातें कहेंगे, जिसे मैं नहीं सुन सकूँगा, तो अभी कहे दो ना। (४) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आपको लगेगा कि इस इन्सान के साथ और वक़्त बिताया होता तो अच्छा होता, तो आज ही आओ ना। इसीलिए कहता हूं कि इन्तजार मत करो, इन्तजार करने में कभी कभी बहुत देर हो जाती है। इस लिये मिलते रहो, माफ कर दो, या माफी माँग लो। *मन "ख्वाईशों" मे अटका रहा* *और* *जिन्दगी हमें "जी "कर चली गई.*
Image