नामकरण : *लखनऊ शहर के जाने माने श्री राममोहन दीक्षित के पौत्र का मूल शांति पाठ का आयोजन उनके निज निवास पर परिवार और मित्रो के साथ धूम-धाम से हुआ सम्पन* *लखनऊ* लखनऊ शहर के जाने माने कैम्पवल रोड मोमिन नगर निवासी श्री राममोहन दीक्षित पत्नी श्रीमती शीला दीक्षित के यहाँ दिनांक 12 जनवरी को उनकी पुत्र बधू पल्लवी दीक्षित पत्नी श्रीष दीक्षित को पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई थी। इस खुशी में राममोहन दीक्षित ने अपने पौत्र का नामकरण के साथ मूल शांति पाठ का आयोजन दिनांक 8 फरवरी 2020 दिन शनिवार को किया जिसका समापन 09 फरवरी 2020 को मित्रों, परिवार जनों के साथ धूम-धाम से सम्पन्न हुआ तथा पौत्र अक्षत दीक्षित एवं उनके पुत्र और पुत्रवधू को लंबी आयु की दुवाएँ दी। इस मौके पर मुख्तार खान,मो०वसीम,नजमुल,सलमान,दानिश खान,शबाब अली,अरशद बेग आदि उपस्थित थे। *कृत्य:नायाब टाइम्स*
Popular posts
यौमे पैदाइश की मुबारकबाद आरिज़: *"यौमे पैदाइश"1,अक्टूबर 2020 के मौके पर आरिज़ अली को तहेदिल से मुबारकबाद* रायबरेली,आज हमारे पौत्र आरिज़ अली पुत्र नौशाद अली के योमे पैदाइश का दिन 1अक्टूबर 2020 है । जिसकी खुशी में उसे तहेदिल से *मुबारकबाद* "हैप्पी बर्थडे" आरिज़ अली । दोस्तो आप सब गुजरीस है के आप उसको अपनी दुवाओ से भी नवाज़े। *हैप्पी बर्थडे* आरिज़ अली....!🎂💐 नायाब अली लखनवी सम्पादक "नायाब टाइम्स" *अस्लामु अलैकुम/शुभप्रभात* हैप्पी गुरुवार
Image
गुरुनानक देव जयन्ती बधाई: मृत्यु लोक के सभी जीव जंतु पशु पक्षी प्राणियों को स्वस्थ शरीर एवं लम्बी उम्र दे खुदा आज के दिन की *💐🌹*गुरु नानक जयन्ती पर देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं/लख लख मुबारक।*💐🌹 * हो.. रब से ये दुआ है कि आपके परिवार में खुशियां ही खुशियाँ हो आमीन..! अपने अंदाज में मस्ती से रहा करता हूँ वो साथ हमारे हैं जो कुछ दूर चला करते हैं । हम आज है संजीदा बेग़म साहेबा के साथ.....! *अस्लामु अलैकुम/शुभप्रभात* हैप्पी सोमवार
Image
मुत्यु लोक का सच:*आचार्य रजनीश* (१) जब मेरी मृत्यु होगी तो आप मेरे रिश्तेदारों से मिलने आएंगे और मुझे पता भी नहीं चलेगा, तो अभी आ जाओ ना मुझ से मिलने। (२) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आप मेरे सारे गुनाह माफ कर देंगे, जिसका मुझे पता भी नहीं चलेगा, तो आज ही माफ कर दो ना। (३) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आप मेरी कद्र करेंगे और मेरे बारे में अच्छी बातें कहेंगे, जिसे मैं नहीं सुन सकूँगा, तो अभी कहे दो ना। (४) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आपको लगेगा कि इस इन्सान के साथ और वक़्त बिताया होता तो अच्छा होता, तो आज ही आओ ना। इसीलिए कहता हूं कि इन्तजार मत करो, इन्तजार करने में कभी कभी बहुत देर हो जाती है। इस लिये मिलते रहो, माफ कर दो, या माफी माँग लो। *मन "ख्वाईशों" मे अटका रहा* *और* *जिन्दगी हमें "जी "कर चली गई.*
Image