देशमुख की जबानी मेवात की दास्तां: 🌙 ___मरकज़ निजामुद्दीन;ऐतिहासिक पृष्ठभूमि--* ----------------***----------------- सन् 1855ई0 में तबलीग़ी जमात के संस्थापक मौलाना मुहम्मद इल्यास (रह0) के अब्बा जान(पिता जी) मौलाना इस्माइल साहब, इलाहीबक्श के बच्चों को पढ़ाने के लिए कांधला से दिल्ली आए। इलाहीबक्श, बादशाह बहादुर शाह जफर के निजी चिकित्सक व समधि थे। ये वही इलाहीबक्श है जिसने 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के लिए जासूसी की और किले के बहुत महत्वपूर्ण सूचनाएं अंग्रेजों तक पहुँचाई। यही नहीं बादशाह बहादुर शाह जफर को भी इसी ने गिरफ्तार करवाया था। जैसाकि होता है। 1857 की क्रांति की विफलता के बाद ,इलाहीबक्श भी अपराध बोध का शिकार हो गया और परेशान रहने लगा। काफी दिनों बाद इन्होंने अपनी परेशानी मौलाना मुहम्मद इस्माइल साहब को बताई। मौलाना ने उनका रूहानी इलाज किया,जिससे इलाहीबक्श को दिमागी सुकून मिला। इसके बाद इलाहीबक्श ने दिल्ली छोड़ दी और निजामुद्दीन आकर रहने लगे। यहाँ उन्होंने एक आलीशान बंगला बनवाया और उसके पास ही एक मस्जिद बनवाई, जो आगे चलकर बंगले वाली मस्जिद कहलाई। मस्जिद के साथ ही एक हुजरा बनवाया और मौलाना मुहम्मद इस्माइल को साहब मरहूम को मस्जिद की इमामत का जिम्मा सौंपा गया। उस समय मेवात से दिल्ली जाने के लिए पैदल का रास्ता वाया धौज व निजामुद्दीन था। मेवाती इसी रास्ते से मजदूरी करने दिल्ली जाते थे। मस्जिद के सामने मीठे पानी का कुआँ था। जहाँ मेवाती अपने साथ लाया खाना खाते , दोपहरी में पेड़ों के नीचे आराम करते और दिल्ली की ओर चल देते। एक दिन मौलाना इस्माइल अकेले थे। उन्होंने ज़ोहर की आज़ान दी और जमात के लिए किसी दूसरे आदमी का इन्तज़ार करने लगे। उल्लेखनीय है कि उस समय निजामुद्दीन के आस -पास आबादी नहीं थी,बस हजरत निजामुद्दीन औलिया की मजार थी जिसके दक्षिण की ओर दरगाह के खादिमों के मकान थे। बाकी चारों ओर जंगल था। मौलाना साहब आदमी की तलाश में मस्जिद से बाहर निकले तो उन्हें कुछ मेवाती आते हुए दिखाई दिये। मौलाना ने उन्हें रोका और नमाज़ की दावत दी। मगर मेवाती तो नमाज़ जानते ही नहीं थे।-- खैर मौलाना ने उन्हें वजू करवाया और फिर नमाज़ पढ़ाई। नाम के बाद उनसे पूछा, " कहाँ जा रहे हैं?" मेवातियों ने जवाब दिया," दिल्ली मजदूरी करने जा रहे हैं।" यह सुन कर मौलाना ने कहा," अगर तुम्हें मजदूरी यहीं दे दो जाए तो कर लोगे।" मेवातियों ने कहा," हमें तो मजदूरी करनी है, कहीं भी कर लेंगे ।" उस दिन से मौलाना रोजाना उन्हें नमाज़ सिखाते/पढ़ाते और शाम को मजदूरी दे देते। इसी तरह 15-20 दिन गुजर गए। एक दिन मेवातियों ने आपस में सलाह-मशविरा किया। " यार,मौलाना हमारे पास काम भी नहीं कराते और अच्छी-अच्छी बातें भी बताते हैं और मजदूरी भी पूरी देते हैं। यार, मौलाना सू बिना काम मजदूरी लेणो ठीक नांय।" इसके बाद उन्होंने मौलाना से मजदूरी लेने से मना कर दिया और उनसे लिए पैसे भी वापिस कर दिये। कुछ दिन बाद वे मौलाना को मेवात लेकर आए। फिरोजपुर नमक में उनका मुकाम रहा। उसके बाद मेवात कुछ बच्चे पढ़ने के लिए निजामुद्दीन गये। इस तरह बंगले वाली मस्जिद में निजामुद्दीन मदरसे की शुरूआत हुई। मौलाना मुहम्मद इस्माइल साहब की 1898 में वफ़ात हो जाने के बाद उनके बड़े बेटे मौलवी मुहम्मद अहमद ने निजामुद्दीन मदरसे को संभाला। वे भी मेवात आते-जाते रहे। मौलवी मुहम्मद अहमद की वफ़ात 1917 में हुईं। इस समय उनके सबसे छोटे भाई मौलवी मुहम्मद इल्यास साहब, मदरसा मुजाहिर-उल-उलूम,सहारनपुर में मुदर्रिस थे। मौलवी मुहम्मद अहमद की वफ़ात के बाद लोगों ने मौलवी मुहम्मद इल्यास साहब से दरख्वास्त की, कि अब आप अपने बाप और भाई के लगाये हुए पौधे को सींचने के लिए निजामुद्दीन चलें। मौलाना पहले तो तैयार नहीं हुए मगर जब लोगों ने ज्यादा इसरार किया तो आप निजामुद्दीन आ गये। मेवातियों को जब पता चला कि मौलवी इस्माइल साहब के छोटे बेटे निजामुद्दीन आ गये हैं तो वे बहुत खुश हुए और निजामुद्दीन उनसे मिलने पहुँच गये। कुछ दिन बाद मेवातियों ने मौलाना इल्यास साहब से मेवात चलने की दरख्वास्त की। मौलाना ने कहा,"एक शर्त पर मेवात चल सकता हूँ कि मेवात में एक मकतब(मदरसा) खोलने की हाँ करो तो ।" मेवातियों ने हाँ कर दी। उसके बाद मौलाना इल्यास साहब फिरोजपुर नमक आए और आते ही अपनी शर्त याद दिलाई। इसके बाद फिरोजपुर नमक में मेवात के पहले मकतब की स्थापना हुई। उसके बाद इसी सफर में कुल दस मकतब चालू किये गये। इस तरह कुछ ही दिनों में मेवात में सैकड़ों मकतब शुरू हो गई। मौलाना समय-समय पर इन मकतबों की प्रोग्रेस रिपोर्ट लेते। कुछ ही दिनों में मौलाना इस नतीजे पर पहुंचे कि सिर्फ मकतबों से मेवात की जहालत दूर नहीं हो सकती। इसके बाद उन्होंने मेवात का सर्वे कराया तो रिपोर्ट मिली कि मेवात में मस्जिदें बहुत कम हैं और जो हैं वे भी बन्द पड़ी हैं। नमाज तो क्या लोगों को कलमा भी याद नहीं है। लोग गैरइस्लामी परम्पराओं में इस कद्र फंसे हुए हैं कि वे असल इस्लाम से कोसों दूर हैं। इसी दौरान मौलाना के सामने एक नौजवान लाया गया। बताया गया ये लड़का फलां मकतब से फारिग है। उसका लिबास और चेहरा (दाढ़ी-मूंछ) सफा चट किसी तरह भी इस्लामी नहीं था। यह देख मौलाना को बड़ा दुःख हुआ। अब उन्हें यकीन हो गया कि सिर्फ मकतबों से मेवात की जहालत दूर नहीं हो सकती। इसी समय आप सन् 1932 में तीसरे हज के लिए मक्का गये। यहाँ आपको सपना देखा," आपसे काम लेना है।" सुबह उठे तो बहुत चिन्तित थे। आलिमों से तासीर पूछी। आलिमों ने ढाढ़स बंधाया। चिन्ता मत करो। आपसे काम ही लेना है। क्या काम लेना है वे खुद ले लेंगें। हज से वापिस आए,तो एक योजना बनाई। लोगों को मस्जिद तक लाएं और उनसे बात करें। उसके बाद 02 अगस्त, सन्1934 ई0 को नूँह में पूरे मेवात की एक पँचायत बुलाई गई। इस पँचायत में पूरे मेवात से 107 जिम्मेदार लोगों ने शिरकत की। पँचायत की अध्यक्षता मौलाना इल्यास साहब ने की। पँचायत में 15 प्रस्तावों पर सहमति बनी। मुख्य तौर मस्जिदें आबाद करना व नई मस्जिदें तामीर(निर्माण) करना,तालीम का इन्तजाम करना, मेव मर्द व औरतों के गैरशरअई(गैर इस्लामिक) लिबास को बदलना,आपस के झगड़ों को निपटाना, दहेज बन्द करना, दीन की दावत व तबलीग करना इत्यादि। धीरे-धीरे काम शुरू हुआ। तीन नियम बनाए गये। गश्त, नमाज, और तालीम। इसके बाद सन् 1939 में चिल्ले (40 दिन) की पहली जमाअत कांधला और फिर दूसरी जमाअत रायपुर भेजी गई। जमाअतों के लिए छ: बिन्दुओं पर काम करने के लिए जाना तय हुआ 1-कलमा (तौहीद)- कलमा याद करवाना, कलमे का मतलब क्या है और कलमे का महत्व क्या है। 2-नमाज़-नमाज सीखना,नमाज़ क्या है,नमाज़ का हमारे जीवन में महत्व क्या है। 3- हर मोमिन को कम से कम इतना इल्म सीखना चाहिए कि उसे हराम-हलाल ( वैध-अवैध) का ज्ञान हो जाए। 4-इकराम-ए-मुस्लिम-एक मुसलमान कैसा हो। उसका चरित्र, व्यवहार, मामलात व मासरात (लेन-देन) कैसे हों। 5-इखलास-ए-नियत 6-दावत-ए-तबलीग-सभी मुसलमानों को दीन की दावत दी जाए। इस तरह एक योजनाबद्ध तरीके से काम शुरू हुआ। जमाअत में जाने वालों के लिए भी नियम बने। वे मस्जिद में ठहरेंगे अमीर की बात मानेंगे सर नीचा करके चलेंगे धीरे बोलेंगे अपना माल व जान तथा समय लगाएंगे। कोई दुनियावी बात नहीं करेंगे। इस तरह जमाअत के लोग सिर्फ जमीन से नीचे (कब्र) की और आसमान से ऊपर (जन्नत-जहन्नुम) ही बात करते हैं। सियासत,साम्प्रदायिकता और संकीर्णता से उनका कोई लेना-देना नहीं होता। शुरूआत में समाज सुधार पर काफी जोर दिया गया था। लोगों के आपसी झगडों को सुलझाना,बिना दहेज की शादियाँ करवाना,जिनका निकाह जलसों में हजरत जी खुद पढ़ाते थे इत्यादि। तबलीग ने न केवल अर्धसभ्य मेवों को सभ्य बनाया बल्कि उन्हें वास्तविक इस्लाम से रूबरू कराया और पूरी दुनिया में मेवात की एक नई पहचान कायम हुई। आपकी दुआओं का तालिब हकीम रियाज अहमद देशमुख.✍️


Popular posts
Schi baat:*खरी बात * संस्कारी औरत का शरीर केवल उसका पति ही देख सकता है। लेकिन कुछ कुल्टा व चरित्रहीन औरतें अपने शरीर की नुमाइश दुनियां के सामने करती फिरती हैं। समझदार को इशारा ही काफी है। इस पर भी नारीवादी पुरुष और नारी दोनों, कहते हैं, कि यह पहनने वाले की मर्जी है कि वो क्या पहने। बिल्कुल सही, अगर आप सहमत हैं, तो अपने घर की औरतों को, ऐसे ही पहनावा पहनने की सलाह दें। हम तो चुप ही रहेंगे।
Image
दीप जलाकर प्रकाश पर्व : *एस०पी०जी०आई० के चिकित्सको की कोरोना पर विजय,कनिका की छठी जाँच रिपोर्ट आई निगेटिव* लखनऊ,एस०पी०जी०आई० में 20मार्च से लगातार कोरोना पॉजिटिव कनिका कपूर और डॉक्टरों के बीच चल रहा युद्ध अब समाप्ति के कगार पर आ गया है,लगातार पाँच जाँच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद भी डॉक्टरों ने हार नही मानी और लगातार कनिका का उपचार करते रहे। छठी रिपोर्ट निगेटिव आने पर कनिका के परिजनों और डॉक्टरों में खुशी की लहर दौड़ गयी और कनिका को दुबारा ज़िन्दगी खुद को पहचान ने पर ईस्वर की दया से दान स्वरूपइस मिली । *इस घटना ने एक बात तो सत्य साबित कर दी है कि कोरोना से बचाव हर संभव है।* इस उदाहरण से सभी देश वासियों के बीच एक संदेश जा रहा है कि सरकार द्वारा दिये गए निर्देशों का पालन करते रहने से कोरोना जैसी प्राणघातक महामारी पर विजय पाना कोई मुश्किल काम नही। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
RTI: एक और खबर जरा हट के ... 🤔🤔🤔🤔 वाह खट्टर साहब वाह .. क्या जवाब मिला है आपकी सरकार से !!! चंडीगढ़: सूचना का अधिकार (RTI) के तहत मांगी गई जानकारी से पता चला है कि हरियाणा सरकार के पास मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर राज्य सरकार के कई कैबिनेट मंत्रियों और राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य की नागरिकता से जुड़े दस्तावेज नहीं हैं. 20 जनवरी को पानीपत के रहने वाले एक्टिविस्ट पी.पी. कपूर ने इस संबंध में जानकारी पाने के लिए RTI दाखिल की थी. इस RTI में उन्हें जो जवाब मिला, वह काफी हैरान करने वाला था. पी.पी. कपूर की RTI में हरियाणा की पब्लिक इंफॉर्मेशन ऑफिसर पूनम राठी ने कहा कि उनके रिकॉर्ड में इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है. उन्होंने कहा, 'माननीयों के नागरिकता संबंधी दस्तावेज चुनाव आयोग के पास हो सकते हैं.' बताते चलें कि पिछले साल सितंबर में विधानसभा चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने वादा किया था कि वह अवैध प्रवासियों को हरियाणा से निकालने के लिए राज्य में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) लागू करेंगे.
Image
मंगलमय : *आपको और आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएं* मैं ईस्वर से प्राथना करता हूँ कि मृत्यु लोक पर आप स्वस्थ रहें। "होली के इस पर्व पर आप का जीवन हमेशा रंगों की तरह खिलता व महकता रहे,आपके वे सारे सपने पूरे हो जो आप के अपनो ने परिवार के साथ देखे हो !" नायाब अली लखनवी "सम्पादक"
Image
लॉक डाउन 17 मई 2020 तक: *उत्तर प्रदेश के विभाजित जिलों में सरकार द्वारा दी गयी अलग-अलग गाइडलाइन* भारत सरकार द्वारा जारी की गई अलग-अलग क्षेत्रों में गाइडलाइन 3मई के बाद लागू हो जाएगी,जिसमे आम जनमानस को कुछ छूट होगी। *रेड जोन* रेड जोन के जिलों में जारी गाइडलाइन के अनुसार, चार पहिया वाहन में ड्राइवर सहित 2 लोग ही बैठ सकेंगे। औद्योगिक क्षेत्रों में जैसे जरूरी संसाधन शोसल डिस्टनसिंग का पालन करते हुए कार्य कर सकेंगी। सड़क निर्माण का कार्य भी सोशल डिस्टनसिंग का पालन करते हुए शुरू हो जाएगा। कालोनियों में ज़रूरत के सामानों की दुकाने भी बिना भीड़ लगाए खुलने के लिए भी अनुमति दे दी गयी है। प्राइवेट स्तर के कार्यालय 33℅ कर्मचारियों के साथ भी खुलने की अनुमति प्रदान की गई है। *ऑरेंज ज़ोन* ऑरेंज ज़ोन में ऑटो रिक्शा में मात्र एक यात्री को बैठाने की अनुमति प्रदान की गई है। दो पहिया वाहन पर मात्र अकेले चालक दारा ही चलने की अनुमति दी गयी है। *ग्रीन ज़ोन* रेड जोन,ऑरेंज ज़ोन में मिली छूट के अतिरिक्त बसों में 50% ही यात्रियों को बैठकर सभी यात्रियों को मास्क लगाकर चलने की अनुमति दी गयी है। उक्त सभी ज़ोन में स्कूल, कॉलेज,मॉल,सिनेमा हाल,होटल,रेस्टोरेंट, भीड़भाड़ बाली सभी जगहों जैसे धार्मिक स्थलों, 65 वर्ष के महिला/पुरुषों एवं 10 वर्ष के बच्चों को अनुमति प्रदान नही की गई है। सभी क्षेत्रों में शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक आपातकाल को छोड़कर घर से निकलना प्रतिवंधित रहेगा। *कृत्य:नायाब टाइम्स*
Image