गुरु की तलाश में नायाब: *"गुरु पूर्णिमा"* "गुरु/उस्ताद वो जो अपने को दर्शाए नहीं" *आदिकाल से सनातन धर्म समय-समय पर अनेक पर्व एवं त्योहारों के लिए जाना जाता रहा है | सनातन धर्म के प्रत्येक पर्व एवं त्योहार आध्यात्मिकता एवं आत्मीयता से जुड़े हुए हैं | इसी क्रम में आषाढ़ शुक्ल पक्ष पूर्णिमा को "गुरु पूर्णिमा" का पावन पर्व मनाया जाता है | मानव जीवन में सद्गुरु का बहुत बड़ा महत्व है | जन्म देने वाली माता जीवन की प्रथम गुरु होती है उसके बाद मनुष्य के जीवन को प्रकाशित करने के लिए मानव जीवन में सद्गुरु का प्रवेश होता है | जिस प्रकार भगवान वेदव्यास ने वेदों के गूढ़ रहस्यों को सरल करके मानव मात्र के लिए अठारह पुराणों की रचना कर दी उसी प्रकार सद्गुरु भी जीवन के रहस्यों को सुलझाकर अपने शिष्य को प्रकाशित कर देते हैं | गुरु के बिना इस भवसागर से पार नहीं जाया जा सकता है | गुरु महिमा की व्याख्या करना सूर्य को दीपक दिखाने जैसा है | जो शक्ति मनुष्य को अंधकार से निकालकर प्रकाश में खड़ा कर देती उसे गुरु कहां गया है | भगवान वेदव्यास के प्राकट्य दिवस के पावन दिन पर गुरु पूर्णिमा का पावन पर्व मनाया जाता है | जो मनुष्य को किसी भी विषय विशेष में ज्ञान प्रदान करके उसका मार्गदर्शन करें वह गुरु की श्रेणी में आ जाता है | गुरु का सम्मान करना प्रत्येक मनुष्य का प्रथम कर्तव्य होता है क्योंकि यदि गुरु रूठ जाते हैं तो परमात्मा भी उसकी शररण नहीं दे सकते | गुरु पूर्णिमा का पावन पर्व अपने गुरु के प्रति श्रद्धा व सम्मान का दिवस होता है | गुरुसत्ता का पूजन बड़े श्रद्धा एवं सम्मान के साथ करना चाहिए | सनातन धर्म में सर्वोच्चता को प्राप्त की ब्रह्मा विष्णु महेश भी गुरु के समक्ष गौण हो जाते हैं | किसी भी देवता का पूजन करने से पहले गुरु के पूजन को महत्व दिया गया है , गुरुदेव की महिमा का बखान करने की सामर्थ्य स्वयं शारदा जी मे भी नहीं है |* *आज मनुष्य आधुनिकता के अंधानुकरण में अपने सभी धार्मिक , पौराणिक एवं सामाजिक पर्वों को भूलता चला जा रहा है | आज अनेक ऐसे शिष्य भी देखने को मिलते हैं जो अपने सद्गुरु के सीढ़ी बनाकर सफलता के शिखर पर पहुंच जाते हैं परंतु बाद में उनके द्वारा उसी गुरुसत्ता को उपेक्षित करने का प्रयास किया जाता है | कुछ लोग तो यह भी कहते हैं कि जिससे मैंने गुरुदीक्षा ली है वही हमारा गुरु है | यह अकाट्य सत्य भी है परंतु ऐसे सभी लोगों को मैं बताना चाहूंगा कि गुरु किसे कहते हैं :- प्रेरक: सूचकश्चैव वाचको दर्शकस्तथा ! शिक्षको बोधकश्चैव षडेते गुरुव: स्मृता: !! अर्थात :- प्रेरणा देने वाले , सूचना देने वाले , (सच) बताने वाले , (मार्ग) दिखाने वाले , शिक्षा देने वाले एवं जीवन के रहस्यों का बोध कराने वाले आदि गुरु की श्रेणी में आते हैं | गुरुदेव को पहले ब्रह्मा , विष्णु , महेश की उपमा दी गयी परंतु यह पद भी छोटा लगने लगा तो उन्हें साक्षात परब्ह्म कह दिया गया | ब्रह्म का कार्य है सृजन करना तो एक गुरु भी मनुष्य योनि में जन्मे जीव को मनुष्यता प्रदान करने अर्थात सृजन करने का कार्य करते हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने गुरु के प्रति सम्मान बनाये रखते हुए समय समय पर उनके द्वारा प्रदत्त ज्ञान को आत्मसात करते हुए जीवन को र्रकाशित करने का कार्य करते रहना चाहिए | बिना गुरु के ज्ञान नहीं हो सकता ! आज के दिन प्रत्येक मनुष्य को यह चाहिए कि वह जिसे भी अपना गुरु मानता हो उसके चरणों में अवश्य पहुँचने का प्रयास करना चाहिए ! आज का दिन विशेष है वर्ष भर की चाही - अनचाही कटुता एवं विषमता को भूलकर गुरुदेव के चरणें में प्रणाम करते हुए अपने जीवन को सार्थक करने का पर्व है "गुरु पूर्णिमा" |* *देवताओं की कृपा प्राप्त करने के पहले सद्गुरु की कृपा प्राप्त करना परम आवश्यक है | गुरुपूर्णिमा के पावन दिवस पर सद्गुरु का आशीर्वाद अवश्य प्राप्त करके अपने जीवन को धन्य बनाने का प्रयास करना चाहिए |*


Popular posts
मुत्यु लोक का सच:*आचार्य रजनीश* (१) जब मेरी मृत्यु होगी तो आप मेरे रिश्तेदारों से मिलने आएंगे और मुझे पता भी नहीं चलेगा, तो अभी आ जाओ ना मुझ से मिलने। (२) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आप मेरे सारे गुनाह माफ कर देंगे, जिसका मुझे पता भी नहीं चलेगा, तो आज ही माफ कर दो ना। (३) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आप मेरी कद्र करेंगे और मेरे बारे में अच्छी बातें कहेंगे, जिसे मैं नहीं सुन सकूँगा, तो अभी कहे दो ना। (४) जब मेरी मृत्यु होगी, तो आपको लगेगा कि इस इन्सान के साथ और वक़्त बिताया होता तो अच्छा होता, तो आज ही आओ ना। इसीलिए कहता हूं कि इन्तजार मत करो, इन्तजार करने में कभी कभी बहुत देर हो जाती है। इस लिये मिलते रहो, माफ कर दो, या माफी माँग लो। *मन "ख्वाईशों" मे अटका रहा* *और* *जिन्दगी हमें "जी "कर चली गई.*
Image
Schi baat:*खरी बात * संस्कारी औरत का शरीर केवल उसका पति ही देख सकता है। लेकिन कुछ कुल्टा व चरित्रहीन औरतें अपने शरीर की नुमाइश दुनियां के सामने करती फिरती हैं। समझदार को इशारा ही काफी है। इस पर भी नारीवादी पुरुष और नारी दोनों, कहते हैं, कि यह पहनने वाले की मर्जी है कि वो क्या पहने। बिल्कुल सही, अगर आप सहमत हैं, तो अपने घर की औरतों को, ऐसे ही पहनावा पहनने की सलाह दें। हम तो चुप ही रहेंगे।
Image
सोनिया ने केन्द्र सरकार से खज़ाना खोलने का किया आग्रह: *कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गाँधी का सन्देश* "मेरे प्यारे भाइयों और बहनों", पिछले 2 महीने से पूरा देश कोरोना महामारी की चुनौती और लॉकडाउन के चलते रोजी-रोटी-रोजगार के गंभीर आर्थिक संकट से गुजर रहा है। देश की आजादी के बाद पहली बार दर्द का वो मंजर सबने देखा कि लाखों मजदूर नंगे पांव, भूखे-प्यासे, बगैर दवाई और साधन के सैकडों-हजारों किलोमीटर पैदल चल कर घर वापस जाने को मजबूर हो गए। उनका दर्द, उनकी पीड़ा, उनकी सिसकी देश में हर दिल ने सुनी, पर शायद सरकार ने नहीं। करोड़ों रोजगार चले गए, लाखों धंधे चौपट हो गए, कारखानें बंद हो गए, किसान को फसल बेचने के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ीं। यह पीड़ा पूरे देश ने झेली, पर शायद सरकार को इसका अंदाजा ही नहीं हुआ। पहले दिन से ही, मेरे सभी कांग्रेस के सब साथियों ने, अर्थ-शास्त्रियों ने, समाज-शास्त्रियों ने और समाज के अग्रणी हर व्यक्ति ने बार-बार सरकार को यह कहा कि ये वक्त आगे बढ़ कर घाव पर मरहम लगाने का है, मजदूर हो या किसान, उद्योग हो या छोटा दुकानदार, सरकार द्वारा सबकी मदद करने का है। न जाने क्यों केंद्र सरकार यह बात समझने और लागू करने से लगातार इंकार कर रही है। इसलिए, कांग्रेस के साथियों ने फैसला लिया है कि भारत की आवाज बुलंद करने का यह सामाजिक अभियान चलाना है। हमारा केंद्र सरकार से फिर आग्रह है कि खज़ाने का ताला खोलिए और ज़रूरत मंदों को राहत दीजिये। हर परिवार को छः महीने के लिए 7,500 रू़ प्रतिमाह सीधे कैश भुगतान करें और उसमें से 10,000 रू़ फौरन दें। मज़दूरों को सुरक्षित और मुफ्त यात्रा का इंतजाम कर घर पहुंचाईये और उनके लिए रोजी रोटी का इंतजाम भी करें और राशन का इंतजाम भी करें। महात्मा गाँधी मनरेगा में 200 दिन का काम सुनिश्चित करें जिससें गांव में ही रोज़गार मिल सके। छोटे और लघु उद्योगों को लोन देने की बजाय आर्थिक मदद दीजिये, ताकि करोड़ों नौकरियां भी बचें और देश की तरक्की भी हो। आज इसी कड़ी में देशभर से कांग्रेस समर्थक, कांग्रेस नेता, कार्यकर्ता, पदाधिकारी सोशल मीडिया के माघ्यम से एक बार फिर सरकार के सामने यह मांगें दोहरा रहे है । मेरा आपसे निवेदन है कि आप भी इस मुहिम में जुड़िए, अपनी परेशानी साझा कीजिए ताकि हम आपकी आवाज को और बुलंद कर सकें। संकट की इस घड़ी में हम सब हर देशवासी के साथ हैं और मिलकर इन मुश्किल हालातों पर अवश्य जीत हासिल करेंगे। जय हिंद! सोनिया गांधी
Image
मुबारक हो: आईपीएस नूरूल हसन जी अपनी सरिकेहयात डा0 इरम सैफी जी कें साथ अल्लाह रब्बुल इज्ज़त जोड़ी सलामत रक्खें आमीन...
Image
स्पोर्ट्समैन जाफ़र के सम्मान में क्रिकेट मैच: *जाफ़र मेहदी वरिष्ठ केन्द्र प्रभारी कैसरबाग डिपो कल 30 नवम्बर 2020 सोमवार को सेवानिवृत्त हो जाएगे उनके सम्मान में क्रिकेट मैच परिवहन निगम ने आयोजित किया* लखनऊ, उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के स्पोर्ट्समैन जाफ़र मेहंदी जो 30 नवम्बर 2020 को सेवानिवृत्त हो जाएंगे को "मुख्य महाप्रबंधक प्रशासन" सन्तोष कुमार दूबे "वरि०पी०सी०एस०" द्वारा उनके सम्मान में क्रिकेट मैच आयोजित कर उनका सम्मान किया जायेगा , जिसमें एहम किरदार पी०आर०बेलवारिया "मुख्य महाप्रबंधक "संचालन" व पल्लव बोस क्षेत्रीय प्रबन्धक-लखनऊ एवं प्रशांत दीक्षित "प्रभारी स०क्षे०प्रबन्धक" हैं जो * अवध बस स्टेशन कमता लखनऊ* के पद पर तैनात हैं , इस समय *कैसरबाग डिपो* के भी "प्रभारी स०क्षे०प्र०" हैं। कैसरबाग डिपो के वरिष्ठ केन्द्र प्रभारी जाफ़र मेहदी साहब दिनाँक,30 नवम्बर 2020 को कल सेवानिवृत्त हो जायेगे। जाफ़र मेहदी साहब की भर्ती स्पोर्ट्स कोटा के तहत 1987 में परिवहन निगम में हुई थी। जो पछले तीन सालो से दो धारी तलवार के चपेट कि मार झेल रहे थे अब आज़ादी उनके हाथ लगी मेंहदी साहब नायाब ही नहीं तारीफे काबिल हैं उनकी जितनी भी बड़ाई की जाय कम हैl कृत्य:नायाब टाइम्स
Image