सीतापुर की शख्सियत: *सीतापुर की तारीख़ी शख़्सियत: डा0 सफ़दर आह सीतापुरी- 29 जुलाई को उनके योमे वफ़ात पर ख़िराजे अकीदत का नज़राना* "ख़ुश्तर रहमान खाँ " सीतापुर,कोई भी गगन चुम्बी शानदार इमारत उस वक्त तक कामयाब नहीं हो सकती जब तक उसकी बुनियाद (नींव) करीने से मजबूती देकर ज़मीन के नीचे धँसाई न गई हो। बुनियाद में लगने वाले पत्थर किसी को दिखाई तो नहीं देते, लेकिन शानदार इमारत दीदाजे़ब हो इसके लिये बुनियाद का मज़बूती से अपनी जगह जमे रहना शर्त है। बुनियाद हिली तो शानदार इमारत में शिगाफ़ (दरार) पड़ना तय है और शिगाफ़ पड़ते ही शानदार इमारत की खुबसूरती फीकी पड़ना भी यक़ीनी। ज़हिर है इंसान दुनिया में तब तक किसी काम में कामयाबी हासिल नहीं कर सकता, जब तक उस काम की बुनियाद को मज़बूती न दे दी जाय। भारतीय फ़िल्म जगत आज दुनिया भर में अपने जलवे बिखेर रहा है। दुनिया के हर उस कोने में जहाँ-जहाँ उर्दू-हिन्दी ज़बान बोली और समझी जाती है, भारतीय फ़िल्में और इनके गीत इंसानों की तस्कीन का एक बेहतरीन ज़रिया हैं। दुनिया में बहुत सारे लोग भारतीय फ़िल्मों के गीत गुनगुनाकर अपना ग़म ग़लत करने की कोशिश करते हैं, तो नौजवानों का एक बड़ा तब्क़ा मौज-मस्ती की जिऩ्दगी को खुश्ग्वार बनाने के लिये इन्हीं भारतीय फ़िल्मों के शानदार गीतों और म्युज़िक का सहारा लेता है। भारतीय फ़िल्मों के किरदार और उनका असर अक्सर जा-बजा रूनुमा होने वाले वाक़्यात और हादसात में भी नज़र आ ही जाता है। लेकिन भारतीय फ़िल्मों की शुरूआत करने वाली अज़ीम शख़्यिात से आज के लोग ख़ासकर नौजवान तब्क़ा पूरी तरह अन्जान है। वह अपनी मस्ती में मस्त है। हमारी शानदार विरासत पर गर्द-गुबार तेजी से जमती जा रही है। वह किरदार धँुधला रहे हैं या ख़त्म हो रहे हैं, जिनकी रक्खी नींव पर बनी इमारत पर हम रक्स करते हुए झूम रहे हैं, जश्न मना रहे हैं। सोच कर हैरत होती है कि जब भारत में ख़ामोश (मूक) फ़िल्मों का उदय हुआ होगा तो फ़िल्मकारों के सामने कैसी-कैसी सख़्त दुश्वारियाँ रही होगी, लेकिन उन्होने हिममत नहीं हारी आगे बढ़ते रहे-बढ़ते रहे नतीजा यह कि आज हम दुनिया में उस मुक़ाम पर पहुँच चुके हैं जिसका लोग ख़्वाब देखते-देखते फ़ना हो जाया करते हैं और ख़्वाब पूरा नहीं होता। भारतीय फ़िल्मों की नींव रक्खने में अपनी सलाहियतों का सरमाया खपाने वाले एक अजीम शख़्स का ताअल्लुक़ सीतापुर की सरज़मीं से भी रहा है। यूँ तो अनगिनत लोग ऐसे हैं जिन्होंने अपने कारनामों से सीतापुर की धरती को अज़मत बख़्शी जिनका क़र्ज इस धरती पर हमेशा के लिये क़र्ज़ ही रहेगा, लेकिन अगर फ़िल्मों की बात की जाये तो डा0 सफ़दर आह सीतापुरी की कोई मिसाल अब तक कहीं नज़र नहीं आती। वह न सिर्फ सीतापुर के लिये तारीख़ी शख़्सियत के अलमबरदार हैं। बल्कि उनकी दर्जनांे तसानीफ़ (लेखन कार्य) उर्दू का बेशक़मती ख़ज़ाना है। जो रहती दुनिया तक मिश्अल-ए-राह बनकर हमारी रहनुमाई करता रहेगा। डा0 सफ़़दर आह सीतापुरी की पैदाइश 28 अगस्त 1905 में सीतापुर शहर के मोहल्ला क़जियारा में हुई। इब्तिदाई और रिवायती तालीम सीतापुर में ही हासिल की। शायरी का शौक़ इस क़दर हावी रहा है कि अल्हड़ लड़क्पन में ही शेरी नशिस्तों में कलाम पढ़ने लगे और दाद ओ तहसीन हासिल करते रहे। 1919 में उनका कलाम मैगज़ीन में छपने लगी। 1928 में उन्होने उर्दू हफ़तरोजा (साप्ताहिक) ‘‘हातिफ’’़ शाया (प्रकाशित) किया, 1934 में हिन्दी हफतरोजा ‘‘जनता’’ उन्ही इदारत (सम्पादन) में मंजरे आम हुआ। जमाना गुज़रता रहा डा0 सफ़दर आह का शेरी सफ़र परवान चढ़ता रहा है। एक वक़्त ऐसा आया जब उनकी शेर गोई का चर्चा मुम्बई तक जा पहुँचा उर्दू ड्रामा निगारी में भी उनके नाम को सराहा गया। उस वक़्त बम्बई शहर में फ़िल्में बनाने का काम डारेक्टर महबूब अली खान के निर्देशन में फल-फूल रहा था। फ़िल्म डायरेक्टर महबूब अली खान, डा0 सफ़दर आह सीतापुरी की सलाहियतों के असर से खुद को बचा नहीं पाये। नतीजा महबूब अली खान का बुलावा डा0 सफ़दर तक आ पहुँचा और वह 1935 में सीतापुर से मुम्बई नगरी चल पड़े। कई फिल्मों के डायरेक्शन में महबूब अली खान की मदद करने में कामयाबी डा0 सफ़दर आह की क़िस्मत बनी। फिल्मों में गीत लिखना शुरू किया तो रूकने का नाम नहीं लिया। बहुत सारे गीत लिखे जो सीधे जनता की अवाज़ बनते नज़र आये। 200 से ज़्यादा फिल्मी गीत लिखने का रिकार्ड डा0 सफ़दर आह सीतापुरी के नाम दर्ज है। आज भी उनके लिखे गीत सुनकर अंदाजा होता है, कि उनके दिल में इंसानी हमदार्दी का जज़्बा किस ग़ज़ब का था। डा0 सफ़दर आह के गीतों को के0एल सहगल, हुस्न बाना, लतामंगेश्कर, मुकेश कुमार जैसे गुलूकारों ने आपनी आवाज के जादू से चार-चाँद लगाये। डा0 सफ़दर आह सीतापुरी का 1935 से शुरू हुआ फ़िल्मी सफ़र 1959 तक आब-ओ-ताब के साथ जारी रहा है। फ़िल्में कामयाब होती रही गीत गुनगुनाये जाते रहे, लेकिन डा0 सफ़दर आह को समाज में वह मक़बूलियत नसीब न हुई जो उनका हक़ था। आख़िरकार 1959 में वह वक़्त भी उन्हें देखना पड़ा जब उन्होंनें फिल्म जगत को हमेशा के लिये अल्विदा कह दिया। गोशानशीनीं (एकांतावास) अख़्तियार कर ली। गनेशपुरी मुम्बई में अपने घर को ख़ुद के लिये क़ैद ख़ाने में तब्दील कर दिया, गेरूआ लिबास (पहनावा) धारण कर लिया। उनके चाहने वाले रोज सूरज ढलते ही गनेशपुरी में उनकी कुटिया पर हाजरी देते दरबार लगता, महफिलें सजती और रात ढले डा0 सफ़दर आह फिर तन्हा होकर अपनी ख़ामोश कुटिया में दर्द-ओ-आह भरी रात गुजार देते। यह सिलसिले बरसों चला। लोग बताते हैं कि शाम को सजने वाले उनकी दरबारी महफ़िलों में शिरकत करने के लिये लोग मोटर गाड़ियों पर सवार होकर आते थे। उनके लिये तोहफे लाये जाते थे, लेकिन उनके लिये सब मिट्टी हो चुका था। सिर्फ अदब ही उनका ओढ़ना और बिछौना था। कीमती सामान आने-जाने वाले मद्दाहों में तक़सीम कर देना उनका मामूल बन गया था। 29 जुलाई 1980 को डा0 सफ़दर आह सीतापुरी गनेशपुरी-मुम्बई की अपनी इसी कुटिया में दुनिया को ख़ैरबाद कह कर दारेफ़ानी से कूच कर गए। मरते दम तक सीतापुर से उनकी वालेहाना मोहब्बत क़ायम रही और जब-तब सीतापुर आते-जाते रहे। मुझे यह फख्र हासिल है कि उनके इकलौते बेटे जनाब मोहम्मद अफसर जोकि मार्शल आर्ट के बेहतरीन कलाकार थे, हम सब उन्हें प्यार से अंकल कहते थे, के साथ सैयद मतलूब हैदर साहब के सेण्ट बिलाल स्कूल में दर्स-ओ-तदरीस करने और उनसे बहुत कुछ सीखने का मौका भी मिला। डा0 सफ़दर आह सीतापुरी ने उर्दू अदब को आहे रसा, आह के सौ शेर, ज़मज़मा, ग़ज़ल पारे, नव-ब-नव, राम चरित मानस, तुलसीदास, मीर और मीरयात, अमीर ख़ुसरो बहैसियत हिन्दी शायर, फ़िरदौसिये हिन्द, प्रेम बानी, लालक़िला, फ़ल्सफाये मीर, क़ौमी ज़बान, तालीम-ए-बालगाँ, गुनाह की धार, शरारे, गुल्बन, बलन्द पाया, एक ब्याज़, अलमदारे कर्बला, तकमीले हिजाह, हिन्दुस्तानी ड्रामा और उर्दू ड्रामा जैसी दर्जनों नायाब किताबें भी विरासत की शक्ल में दी हैं। डा0 सफ़दर आह सीतापुरी पर डा0 ज़रीना सानी ने पीएचडी मुकम्मल की है, तो ख़्वाजा अहमद अब्बास और ख़्वाजा अहमद फ़ारूक़ी ने दर्जनों मक़ाले (लेख) लिखे हैं। फ़िल्म रोटी, अलीबाबा, नज़र, आसरा, मान, प्रार्थना, औरत, भूख, विजय, बहन, लाजवाब, बावरे नैन, पहली नज़र, प्रेम नगर, जीवन साथी, ग़रीब, नैया, बुल-बुल, आदि ऐसी तारीखी फ़िल्में हैं, जो भारतीय फ़िल्म जगत की बुनियाद मानी जा सकती हैं। इन फिल्मों के लिये डा0 सफ़दर आह सीतापुरी की मेहनत और लिखे गीत, डाॅयलाग उसी तरह हमेशा ज़िन्दा रहने वाला कारनामा है, जैसे हीन्दोस्तानी तारीख़ में लालक़िला, कुतुब मीनार, ताजमहल, इण्डिया गेट, भूल-भूलैंया, छोटा इमाम बाड़ा वगैरा-वगैरा। नमूने के तौर पर डा0 सफ़दर आह के चन्द शेर पेशे ख़िदमत हैं ---- दिल जलता है तो जलने दे, आसूँ न बहा फरियाद न कर। तू पर्दानशीं का आशिक़ है, तू नामे वफ़ा बरबाद न कर।। ---- मोहब्बत की बातें न भूली भुलाये, बहुत देर रोय जो तुम याद आये।। ---- मेरा शोलए बग़ावत है गराँ बहा अमानत, मेरे बाद नौजवानो इसे तुम जलाये रखना।। ---- खुद परस्ती में हुआ सर्फ़ मेरा वक़्ते अज़ीज़, और रोना है कि अब तक नहीं खुद को जाना।। ---- मेरी शहनाज़ तेरे इश्क़ की सरमस्ती में, घोल कर तल्ख़िये अइयाम मैं पी जाता था। ये उम्मीदे रूख़े ज़ेबाए उरूसे फ़रदा, ज़िन्दगी सोज़ मय ख़ाम मैं पी जाता था।।


Popular posts
स्पोर्ट्समैन जाफ़र के सम्मान में क्रिकेट मैच: *जाफ़र मेहदी वरिष्ठ केन्द्र प्रभारी कैसरबाग डिपो कल 30 नवम्बर 2020 सोमवार को सेवानिवृत्त हो जाएगे उनके सम्मान में क्रिकेट मैच परिवहन निगम ने आयोजित किया* लखनऊ, उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के स्पोर्ट्समैन जाफ़र मेहंदी जो 30 नवम्बर 2020 को सेवानिवृत्त हो जाएंगे को "मुख्य महाप्रबंधक प्रशासन" सन्तोष कुमार दूबे "वरि०पी०सी०एस०" द्वारा उनके सम्मान में क्रिकेट मैच आयोजित कर उनका सम्मान किया जायेगा , जिसमें एहम किरदार पी०आर०बेलवारिया "मुख्य महाप्रबंधक "संचालन" व पल्लव बोस क्षेत्रीय प्रबन्धक-लखनऊ एवं प्रशांत दीक्षित "प्रभारी स०क्षे०प्रबन्धक" हैं जो * अवध बस स्टेशन कमता लखनऊ* के पद पर तैनात हैं , इस समय *कैसरबाग डिपो* के भी "प्रभारी स०क्षे०प्र०" हैं। कैसरबाग डिपो के वरिष्ठ केन्द्र प्रभारी जाफ़र मेहदी साहब दिनाँक,30 नवम्बर 2020 को कल सेवानिवृत्त हो जायेगे। जाफ़र मेहदी साहब की भर्ती स्पोर्ट्स कोटा के तहत 1987 में परिवहन निगम में हुई थी। जो पछले तीन सालो से दो धारी तलवार के चपेट कि मार झेल रहे थे अब आज़ादी उनके हाथ लगी मेंहदी साहब नायाब ही नहीं तारीफे काबिल हैं उनकी जितनी भी बड़ाई की जाय कम हैl कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
जाफ़र मेहंदी की बल्ले बल्ले: * परिवहन निगम के वरिष्ठ खिलाड़ी जाफर मेंहदी के सम्मान में एक मैत्री मैच का आयोजन किया गया। मैच के मुख्य अतिथि एस के दुबे "मुख्य प्रधान प्रबन्धक प्रशासन"* लखनऊ,आज दिनांक 29 नवम्बर 2020 को कॉल्विन क्रिकेट ग्राउंड पर परिवहन निगम के वरिष्ठ खिलाड़ी जाफर मेंहदी के सम्मान में एक मैत्री मैच का आयोजन किया गया । इस मैच के मुख्य अतिथि एस के दुबे (मुख्य प्रधान प्रबंधक प्रशासन) थे । मुख्य प्रधान प्रबंधक प्राविधिक जयदीप वर्मा एवं प्रधान प्रबंधक संचालक सुनील प्रसाद भी मौजूद रहे । इस मैच में परिवहन निगम मुख्यालय ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए योगेंद्र सेठ की 79 रन की शानदार पारी की बदौलत 20 ओवर में 141 रन बनाए । जवाब में खेलने उतरी कैसरबाग डिपो की टीम ने सुनील मिश्रा के नाबाद 51 व नितेश श्रीवास्तव के 25 रन की बदौलत 19.4 ओवरों में लक्ष्य हासिल कर लिया । मुख्यालय की तरफ से मनोज श्रीवास्तव ने दो व जयदीप वर्मा ने एक विकेट लिया । कैसरबाग की तरफ से रजनीश मिश्रा ने 4 ओवरों में 17 रन देकर एक विकेट , नितेश श्रीवास्तव ने एक विकेट लिया । अंत में प्रधान प्रबंधक प्रशासन ने *जाफर मेहंदी* को सम्मानित किया । *योगेंद्र सेठ* को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया । मुख्यालय की तरफ से टीम का नेतृत्व जयदीप वर्मा व कैसरबाग डिपो की तरफ से टीम का नेतृत्व शशिकांत सिंह ने किया । कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
गुरुनानक देव जयन्ती बधाई: मृत्यु लोक के सभी जीव जंतु पशु पक्षी प्राणियों को स्वस्थ शरीर एवं लम्बी उम्र दे खुदा आज के दिन की *💐🌹*गुरु नानक जयन्ती पर देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं/लख लख मुबारक।*💐🌹 * हो.. रब से ये दुआ है कि आपके परिवार में खुशियां ही खुशियाँ हो आमीन..! अपने अंदाज में मस्ती से रहा करता हूँ वो साथ हमारे हैं जो कुछ दूर चला करते हैं । हम आज है संजीदा बेग़म साहेबा के साथ.....! *अस्लामु अलैकुम/शुभप्रभात* हैप्पी सोमवार
Image
आज का आरिज़ अली : *आरिज अली पुत्र नौसाद अली पौत्र नायाब अली लखनबी ने अपने अंदाज़ में लोगों को लॉकडाउन संबंधित दिए तमाम सुझाव* लखनऊ, विश्व विख्यात नायाब अली लखनबी संपादक के पौत्र ने अपने निवास स्थान पर लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए अपने अंदाज में संदेश देने का प्रयास किया है, आरिज ने कुछ खिलौने (जिसमें कार, ट्रक आदि) एकत्र कर लोगों को संदेश देते हुए बताया कि इनको मूव कर लीजिए अभी इनका इस्तेमाल मत करिए,घर पर अपने परिवार के साथ रहिये और बच्चों के साथ समय व्यतीत करिये। आरिज ने थकान या बोरियत होने पर कुछ आसन भी करके दिखाए जिसके जरिये आप घर पर रहकर ही बॉडी को फिट रख सकते है। आरिज ने यह भी बताया की अपने मन पसंद गाने गुनगुनाकर भी समय व्यतीत कर सकते है, अंत मे उन्होंने यह भी बताया कि यह सब करके हम लोग लॉकडाउन को सफल कर लेंगे और कोरोना से जीत हमारी होगी। सलाम है इन देश के उज्ज्वल भविष्य को जो लॉकडाउन को समझ रहे है लेकिन कुछ अपवाद ऐसे है जो बार-बार शासन के दिये गए निदेशों का पालन नही कर पा रहे है। कृत्य:नायाब टाइम्स *अस्लामु अलैकुम/शुभप्रभात* हैप्पी बुधवार
Image
भुखमरी से गुजर रहे4 बच्चे: *भा०जा०पा० राज्य में 4 मासूम बच्चे जूझ रहे है पिता की मौत के भुखमरी से* रोहतक,भुखमरी की कगार पर चार मासूम, लॉक डाउन में पिता की मौत एवं मां तीन साल पहले ही छोड़कर अचानक घर से कहीं चली गई, फिर वो घर नहीं लौटी। अब मजदूर पिता की भी मौत के बाद इन अनाथ बच्चों को आस-पास के लोग कुछ चावल दे देते हैं तो 8 साल की नंदिनी किसी तरह चूल्हा जोड़कर भात पका लेती है और वही भात दोनों टाइम खाकर चारों भाई-बहन भूख मिटाते हैं। रोहतास. जनपद के एक गांव में भुखमरी की कगार पर पहुंचे चार बच्चों की दास्तां सुनकर किसी का भी कलेजा कांप जाएगा. रिपोर्ट के मुताबिक इन बच्चों को जन्म देने वाली मां तकरीबन तीन साल पहले गरीबी के कारण इन्हें छोड़कर चली गई थी. पिता इन्हें किसी प्रकार से पाल रहा था लेकिन लॉकडाउन लॉक डाउन के दौरान पिता की भी मौत हो गई. उसके बाद ये बच्चे दाने-दाने को मोहताज हो गए. हालांकि मीडिया में खबर आने के बाद कुछ समाजसेवी संस्थाओं व सरकारी अधिकारियों ने इन बच्चों की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है। ये मामला रोहतास के तिलौथू प्रखंड के कोडर गांव का है. इन चार बच्चों को देखकर आपका कलेजा पसीज जाएगा. मात्र 9 साल से लेकर 4 साल तक के चार भाई-बहनों को 3 साल पूर्व गरीबी के कारण मां छोड़ कर चली गई और लॉकडाउन में इनके पिता की मौत हो गई. अब ये बच्चे अनाथ हो कर दो वक्त की रोटी को मोहताज है. रिपोर्ट के मुताबिक़ रोहतास के तिलौथू प्रखंड के कोडर गांव निवासी सुरेंद्र मिश्र का पिछले महीने 23 मई को निधन हो गया उसके बाद ये बच्चे अनाथ हो गए. बताया जा रहा है कि तीन साल पहले इनकी मां अचानक घर से कहीं चली गई, फिर नहीं लौटी. तभी से मजदूर पिता इन चार बच्चों की देखभाल कर रहा था। लेकिन लॉकडाउन में काम नहीं मिलने के बाद सुरेंद्र मिश्र बीमार भी रहने लगा और अचानक 23 मई को उसकी मौत हो गई. पिता की मौत के बाद यह चारों बच्चे बेसहारा हो गए. स्थिति यह है कि इनके पास रहने लायक घर भी नहीं है. बरसात में कच्चे घर की छत टपकती है, तो मिट्टी के दीवार कब गिर जाए कोई नहीं जानता. आस-पास के लोग कुछ चावल दे देते हैं तो 8 साल की नंदिनी किसी तरह चूल्हा जोड़कर भात पका लेती है और भात दोनों टाइम खाकर चारों भाई बहन सो जाते हैं. पिता थे तो 4 में से दो बच्चे जय कृष्ण तथा नंदनी स्कूल भी जाते थे लेकिन लॉकडाउन के बाद से गांव में स्कूल भी बंद है और पिता के मौत के बाद अब लगता भी नहीं कि वो स्कूल दोबारा जा पाएंगे। आस-पास के लोग इनकी थोड़ी बहुत मदद कर देते हैं. लेकिन जर्जर हो चुके मिटटी के घर में बिना भोजन ये नन्हे-मुन्ने कैसे अपने दिन काटते होंगे ये बड़ा प्रश्न है. इन चार भाई-बहनों में जयकिशन 9 साल का है, तो नंदिनी 8 साल से भी कम की है. वहीं स्वीटी 6 साल की है और सबसे छोटा प्रिंस 4 साल का है. जिसे यह समझ में भी नहीं आता है कि उसके मम्मी-पापा कहां है. वह अपने-आप में मुस्कुराता भी है. लेकिन उसे यह समझ में नहीं आता कि वह किस हालात से गुजर रहा है. गांव के लोग उनके रिश्तेदारों से संपर्क कर रहे हैं कि कहीं कोई ऐसा मिल जाए? जो इन बच्चों का पालनहार बने. गांव के लोग थोड़ी बहुत मदद कर देते हैं. फिलहाल उससे इन लोगों का गुजारा चल रहा है, लेकिन सवाल उठता है कि यह कब तक चलेगा. जब तक सरकारी स्तर पर इन्हें कुछ मदद नहीं मिलती तब तक इनके भविष्य को संवारा नहीं जा सकता। इस मामले में तिलौथू प्रखंड के बीडीओ (BDO) मून आरिफ रहमान से जब बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि सरकार के स्तर से जो भी प्रावधान है वह इन बच्चों को उपलब्ध कराया जाएगा. इसके अलावा उन्होंने व्यक्तिगत रूप से भी मदद करेंगे. वहीं अंचलाधिकारी प्रमोद मिश्र अंचल कर्मियों के साथ पहुंच कर जानकारी ली तथा इंदिरा आवास आदि उपलब्ध कराने पर विचार शुरू किया. मीडिया में खबर आने के बाद कुछ सोशल वर्कर्स भी बच्चों की मदद करने के लिए आगे आए हैं. लेकिन उन्हें कितनी मदद मिल पायेगी ये तो वक्त ही बताएगा। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image