कुकर्मी ब्रजेश ठाकुर: please पुरा पढ़ें.... ⁃ आंटी कहती थी ‘कीड़े की दवाई’ है और खाना में मिला कर देती थी. दवा खाते ही नींद आने लगती थी. सुबह को जब आँख खुलती थी तो हमारे कपड़े फ़र्श पर फेंके हुए दिखते थे. हम नंगे होते थे बिस्तर पर. ⁃ ब्रजेश अंकल हम को अपने ऑफ़िस में ले जाते थे. वहाँ जा कर हमारे प्राइवेट पार्ट को इतने ज़ोर से स्क्रैच करते थे कि ख़ून निकल आता था. ⁃ खाना खिला कर हमें ब्रजेश अंकल के रूम में ज़बरदस्ती भेजा जाता था. वहाँ रात को कोई मेहमान आने वाला होता था. ⁃ जब हम गन्दा काम (सेक्स) के लिए मना करते थे तो हमारे पेट पर आंटी लात से मारती थी. ⁃ हमें कई रोज़ भूखा रखा जाता था. खाना माँगने पर गर्म तेल और गर्म पानी हम पर फेंक देती थी आंटी. ऊपर लिखी बातें किसी कहानी का हिस्सा नहीं है. ये मुज़फ़्फ़रपुर के ‘सेवा संकल्प बालिका गृह’ में हुए बलात्कार पीड़िता बच्चियों ने अपने टेस्टिमोनी में कहा है. जिन बच्चियों ने बातें कहीं हैं उनकी उम्र सात से दस साल के बीच है. मैं सोच नहीं पा रही हूँ कि वो बच्चियाँ जो माँ-बाप से बिछड़ गयी या जो अनाथ हैं, उन्हें आप एक सुरक्षित माहौल देने का वादा कर एक घर में ले आते हैं और फिर उनका बलात्कार. छी! और बलात्कार भी कहाँ हो रहा था? एक ऐसे कैंपस में जिसके बग़ल से क्रांति के ‘प्रातःकमल’ अख़बार छप कर निकल रहा है. बलात्कार कर कौन रहा था? ‘प्रातः कमल’ का मालिक ब्रजेश ठाकुर. कौन हैं ये ब्रजेश ठाकुर आइए आपको इनके बारे में थोड़ा डिटेल से बताते हैं. आदरणीय ब्रजेश ठाकुर जी मालिक हैं, हिंदी अख़बार ‘प्रातःकमल’ उर्दू अख़बार ‘हालात-ए-बिहार’ और अंग्रेज़ी अख़बार ‘न्यूज़ नेक्स्ट’ के. इसके अलावा वो समाज सेवा के लिए लड़कियों और महिलाओं के उत्थान के लिए पाँच ‘शेल्टर होम’ चलाते हैं. जिसके लिए उन्हें एक करोड़ रुपए की अनुदान राशि मिलती है. जिसमें से मुज़फ़्फ़रपुर शॉर्ट स्टे होम के लिए उन्हें 40 लाख अलग से मिलता है. इतना ही नहीं ठाकुर जी एक वृद्धाश्रम भी चलाते हैं जिसके लिए 15 लाख सरकार की तरफ़ से मिलता है. और ‘सेल्फ़ हेल्प कम रहबिटेशन’ के नाम पर 32लाख ऊपर से और. अब आप ख़ुद ही अंदाज़ा लगाइए कि ऐसे रसूखदार आदमी के सामने किसी की भी हिम्मत है कि वो एक शब्द भी बोल सके. बालिका गृह के आस-पास रहने वाले लोग बोलते है कि उन्हें बालिका गृह के अंदर से चीख़ने-रोने की आवाज़ें आती थी. मगर ब्रजेश ठाकुर के रौब के आगे वो कुछ पूछने तक की हिमाक़त नहीं कर सकते थे. ब्रजेश ठाकुर के पहुँच का अंदाज़ा इसी से लगा लीजिए कि अभी उसका ये बालिका गृह सील हुआ है और अभी ही ‘भिखारियों के शेल्टर होम’ के लिए सरकार की तरफ़ से उसे टेंडर मिला है. जिसके तहत हर महीने उसे एक लाख रुपय मिलेंगे. मेरे इस लेख लिखने का कोई फ़ायदा नहीं है. मैं जानती हूँ. क्यूँ? क्यूँकि जिनको ब्रजेश ठाकुर जैसे दरिंदे के ख़िलाफ़ करवाई करनी चाहिए वो तो उसके गोद में जा बैठे हैं. ऊपर फ़ोटो देखिये। जब police arrest करके ले जा रही तो कैसे हंस रहा है। पता है वो किस पर हंस रहा है?? आप पर और हम सब पर।।।।। वैसे भी किसको पड़ी है उन अनाथ लड़कियों की. देश में हर दिन हज़ारों बलात्कार होते हैं. क्या हुआ जो 34 और लड़कियों का हो गया. कम से कम वो ज़िंदा तो है. मै लेखक लिखने वाला अपनी जिम्मेदारी निभाई अब बारी है आपकी अगर हम इस घटना पर चुप बैठे रहे, इन बच्चियों को इंसाफ़ दिलाने के लिये अपने हिस्से की भी कोशिश न कर सके तो हमारा इंसान होना व्यर्थ है.. जहाँ भी हैं बाहर निकलिए सड़कों पर, नहीं निकल सकते तो फेसबुक व्हाट्सएप पर लगातार इस मुद्दे को उठाईये. सरकार तक अपनी आवाज़ पहुंचाईये, सवाल पूँछिये, जवाब मांगिये।।। या फिर इंतजार कीजिए जब आपके घर की बहु बेटियों के साथ जब ये दरिंदगी होगा तब सड़क पर उतारियेगा।।। please share and comment..... don't like.... #TheRealLife


Popular posts
Schi baat:*खरी बात * संस्कारी औरत का शरीर केवल उसका पति ही देख सकता है। लेकिन कुछ कुल्टा व चरित्रहीन औरतें अपने शरीर की नुमाइश दुनियां के सामने करती फिरती हैं। समझदार को इशारा ही काफी है। इस पर भी नारीवादी पुरुष और नारी दोनों, कहते हैं, कि यह पहनने वाले की मर्जी है कि वो क्या पहने। बिल्कुल सही, अगर आप सहमत हैं, तो अपने घर की औरतों को, ऐसे ही पहनावा पहनने की सलाह दें। हम तो चुप ही रहेंगे।
Image
रायबरेली हो कर प्रयागराज ? :*20 अक्टूबर से 5 नवम्बर तक राजमार्ग 24बी पर यातायात हेतु रूट परिवर्तित:वैभव श्रीवास्तव "डीएम"* रायबरेली:"सू०वि०रा०" ने जानकारी दी है कि *भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा जनपद रायबरेली* में रायबरेली प्रयागराज राष्ट्रीय राजमार्ग 24बी के किमी 84 में स्थित सई सेतु में मेसर्स सनराइज इन्जीनियर द्वारा प्रारम्भ किये गये मरम्मत कार्य एवं म्गचंदेपवद श्रवपदज के फिक्सिंग के लिए 20 अक्टूबर से 5 नवम्बर 2020 तक पूर्ण यातायात परिवर्तित कराने तथा ब्रिज वर्ष 1966 में खुलने के पश्चात कोई मरम्मत का कार्य न किये जाने कारण ब्रिज का म्गचंदेपवद श्रवपदज पूर्ण रूप से निष्किय हो चुका है, जिसके वजह से पुल पर प्रतिकूल दबाव पड रहा है तथा क्षतिग्रस्त होने की स्थिति बन रही है, जिसके कारण म्गचंदेपवद श्रवपदज तत्काल बदलना अति आवश्यक है। जिसके तहत यातायात परिवर्तित किया जायेगा। हल्ले वाहन के लिए लखनऊ के तरफ से प्रयागराज की तरफ जाने वाले हल्के वाहन रायबरेली सिविल लाइन चैराहे से बांयी तरफ2-25.0 किमी0 जाकर रिंग रोड से होकर जौनपुर रोड पर निकल कर मुंशीगंज बाईपास से प्रयागराज की तरफ जायेगें। प्रयागराज की तरफ से लखनऊ की तरफ जाने वाले हल्ले वाहन भी इसी रास्ते से जायेगें। भारी वाहन के लिए लखनऊ से प्रयागराज की तरफ जाने के लिए बछरावां से लालगंज होकर ऊंचाहार से प्रयागराज की तरफ से जायेगें। रायबरेली से प्रयागराज की तरफ जाने वाले वाहन रायबरेली से परशदेपुर होकर सलोन से ऊंचाहार होकर प्रयागराज की तरफ जायेगें। प्रयागराज से लखनऊ या कानपुर या रायबरेली की तरफ जाने वाले वाहन लखनऊ से प्रयागराज की तरफ जाने के लिए बछरावां से लालगंज होकर ऊंचाहार से प्रयागराज की तरफ से जायेगें। रायबरेली से प्रयागराज की तरफ जाने वाले वाहन रायबरेली से परशदेपुर होकर सलोन से ऊंचाहार होकर प्रयागराज की तरफ जायेगें। जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने जानकारी देते हुए सभी सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये है कि सुरक्षा कारणों को दृष्टिगत रखते हुए उक्त मार्गो पर 20 अक्टूबर से 5 नवम्बर तक पूर्ण यातायात परिवर्तित होने पर आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करेगें। यह जानकारी अपर जिलाधिकारी राम अभिलाष द्वारा दी गई है। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
दोस्तों के बीच ताज़दार: *चारबाग बस स्टेशन के ताज़दार हुसैन "प्रबंधन" का सराहनीय कार्य अब होंगे इसी जून में सेवानिवृत्त* लखनऊ,उ०प्र०राज्य सड़क परिवहन निगम आये दिन अपने कार्यों की वजह से शासन,प्रशासन की तरफ से प्रशंसा का पात्र बनता चला आ रहा है। जिसमे लखनऊ के मुख्य स्थान चारबाग ऐसी जगह है जहाँ पर वाहनों,यात्रियों और आम जनमानस के सैलाब की स्थित को भी काबू करने वाले चारबाग बस स्टेशन के "एआरएम" ताज़दार हुसैन नकवी के कार्यो की सराहना जितनी की जाय उतनी कम है। उनके दोस्त व ख़ास साथी काशी प्रसाद "एआरएम" उप नगरी सेवा",गोपाल दयाल "एआरएम" अवध डिपो,मतीन अहमद "एआरएम" 'प्रबंधन' आलमबाग बस टर्मिनल,जमीला खातून "वरिष्ठ केन्द्र प्रभारी एवं नायाब टाइम्स "सम्पादक" नायाब अली लखनवी "वरिष्ठम पत्रकार" हैं। ताज़दार हुसैन की मुख्यालय से चारबाग बस स्टेशन में तैनाती जुलाई 2018 को हुई थी तभी से भीषण जाम एवं लॉकडाउन के समय मे हज़ारों की संख्या में आ रहे श्रमिक/प्रवासियों की भीड़ को काबू में करते हुए व्यवस्था को चाक-चौबंद बनाये रखा। जिसकी बजह से रोडवेज का नाम रोशन हो रहा है। ताजदार हुसैन वो शख्सियत है जिनके साथ फिल्मी सितारों की भी भीड़ में एक्टर आसिफ जाफरी (विक्रांत),सनी चालर्स और लखनऊ रीज़न प्रबन्धक पल्लव बोस के आदेश का पालन करते है यही वजह है पल्लव बोस ताज़दार को मानते हैं। ताज़दार हुसैन नक़वी "एआरएम" *प्रबंधन* चारबाग बस स्टेशन लखनऊ इस महीने की 30,जून 2020 को अलविदा कह *"सेवानिवृत्त"* हो जाएगे। *कृत्य:नायाब टाइम्स*
Image
कायाकल्प अवार्ड : *डीएम रायबरेली महोदया द्वारा जिला अस्पताल के कर्मचारियों को कायाकल्प अवार्ड से किया सम्मानित* रायबरेली,आज दिनांक 29/02/2020 को राणा वेनी माधव जिला चिकित्सालय (पुरुष) रायबरेली के डॉ०एन०के०श्रीवास्तव "सी०एम०एस०" की अध्यक्षता में कार्यक्रम का आयोजन किया गया इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में डीएम रायबरेली शुभ्रा सक्सेना द्वारा दीप प्रज्वल करके,कर्मचारियों को कायाकल्प अवार्ड से सम्मानित करते हुए उनके अच्छे कार्यों की सराहना कर शुभकामनाये दी एवं अच्छे कार्यों को कर जिले का नाम रोशन करने की भी कर्मचारियों से अपेक्षा की। विशिष्ट अतिथि डॉ०संजय कुमार शर्मा "मुख्य चिकित्साधिकारी" ने कर्मचारियों को प्रसंशा पत्र देकर उनको सम्मानित किया। इस अवसर पर समाज सेवी शालिनी कनौजिया,अपर मुख्य चिक्तिसाधिकारी डॉ एम० नारायण,डॉ०रेनु चौधरी "वरिष्ठ अधिकारी",डॉ०अल्ताफ हुसैन "नोडल अधिकारी",डॉ०बीरबल "वरि०फिजिशन" एवं सुरेश चौधरी "मुख्य फर्मेसीस्ट",राजेश सिंह 'मुख्य फर्मेसीस्ट',सुरेंद्र पटेल "मुख्य फर्मेसीस्ट" कमल नयन श्रीवास्तव "बाबू" व समस्त अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित थे। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image
SJS: *आरिज़ अली प्रथम श्रेणी स्कूल में हाशिल की* रायबरेली,जनपद का जाना माना एस०जे०एस०पब्लिक स्कूल रायबरेली के छात्र आरिज़ अली पुत्र नौशाद अली पौत्र नायाब अली ने प्रथम पोजीशन क्लास में हाशिल किया आप सभी दोस्तों की दुआ का हुआ असर। कृत्य:नायाब टाइम्स
Image